अपना शहर चुनें

States

मुरैना के गांव में होनहार बेटियों के नाम पर होंगे मार्गों के नाम

पुलिस कांस्टेबल बनी गांव की बेटी आसना के नाम पर ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग का रखा नाम
पुलिस कांस्टेबल बनी गांव की बेटी आसना के नाम पर ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग का रखा नाम

मुरैना कम बेटियों के दंश से उबरने के लिए पोरसा कस्बे के हिंगावली गांव के ग्रामीणों ने अनोखी पहल शुरू की है. ग्रामीणों ने तय किया है कि अब गांव की होनहार बेटियों के नाम से ही गांव के मुख्य मार्गों का नाम होगा. ग्रामीणों ने इस पहल की शुरुआत भी कर दी है.

  • Share this:
मुरैना कम बेटियों के दंश से उबरने के लिए पोरसा कस्बे के हिंगावली गांव के ग्रामीणों ने अनोखी पहल शुरू की है. ग्रामीणों ने तय किया है कि अब गांव की होनहार बेटियों के नाम से ही गांव के मुख्य मार्गों का नाम होगा. ग्रामीणों ने इस पहल की शुरुआत भी कर दी है.

हाल ही में पुलिस कांस्टेबल में भर्ती हुई गांव की बेटी आसना के नाम पर ग्रामीणों ने मुख्य मार्ग का नाम रखा है.प्रदेश सरकार का बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान पर जोर है लेकिन सरकार का यह अभियान अंचल में दम तोड़ रहा है. ऐसे में हिंगावली गांव के ग्रामीणों की इस अनोखी पहल की अब अधिकारी भी सराहना कर रहे हैं.

मुरैना जिला देश के उन सौ जिलों में शुमार है, जिसमे लिंगानुपात लड़कियों का काफी कम है. यहां 829 लड़कियां एक हजार लड़कों पर हैं. ऐसे ही हिंगावली गांव में तो इससे भी कम मात्र 756 लड़कियां ही है. ऐसे में लड़कियों का लिगांनुपात बढ़ाने के लिए ग्रामीणों ने इस अनोखी पहल की शुरुआत की है. अब तमाम ग्रामीण प्रोत्साहित होकर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान से जुड़े हैं.



 
 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज