अपना शहर चुनें

States

गांधीवादी सुब्बाराव दे रहे हैं बच्चों को खुशहाली का संदेश

Photo-IANS
Photo-IANS

मध्य प्रदेश में मुरैना जिले के जौरा में गांधीवादी एस.एन. सुब्बाराव बाल आनंद महोत्सव में जुटे देश भर के बच्चों को खुशहाली का संदेश दे रहे हैं. शनिवार से शुरू हुए इस महोत्सव के दूसरे दिन रविवार को बच्चों ने आकर्षक कलाकृतियां और रंगोली बनाई.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में मुरैना जिले के जौरा में गांधीवादी एस.एन. सुब्बाराव बाल आनंद महोत्सव में जुटे देश भर के बच्चों को खुशहाली का संदेश दे रहे हैं. शनिवार से शुरू हुए इस महोत्सव के दूसरे दिन रविवार को बच्चों ने आकर्षक कलाकृतियां और रंगोली बनाई.

बाल आनंद महोत्सव के दूसरे दिन ध्वजारोहण के साथ कार्यक्रमों की शुरुआत हुई. इस मौके पर महोत्सव के संस्थापक डॉ एस एन सुब्बाराव (भाई जी) ने गीत और खेल के माध्यम से बच्चों को अपना साथी बना लिया. यही कारण रहा कि बच्चे भी उनके साथ समूह स्वर में गीत गाने लगे.

उन्होंने बच्चों से कहा कि पूरी दूनिया में सुख, शांति एवं खुशहाली लानी है तो हमको जाति, धर्म, प्रांतीयता की भावनाओं से ऊपर उठकर मानवीयता का रिश्ता बनाना होगा. यहां शामिल हजारों बच्चों के मन और दिल एक जैसे हैं उनके दिल में विभाजन की कोई लकीरें नहीं हैं, लेकिन बड़े होते-होते बच्चों के सुकोमल दिलों में विभाजन के अंकुर डाल दिए जाते हैं. इसलिए बाल आनंद महोत्सव में ऐसे संस्कारों से बच्चों को संस्कारित करना है ताकि बच्चों का दिल बड़ा बन सके तभी हम कह सकते हैं कि सारा जगत हमारा है.



बाल महोत्सव में रविवार को बच्चों ने विविध कार्यक्रमों में भाग लेकर अपनी कला का प्रदर्शन किया. एक तरफ कागज के ऊपर बच्चों ने चित्र बनाए, वहीं दूसरी तरफ कुछ बच्चे मिट्टी की मूर्तियां बनाने में व्यस्त रहें. पांच हजार वर्गफीट की जगह में बालक-बालिकाओं ने अद्भूत रंगोलियां बनाईं तो गायन, भाषण प्रतियोगिता, योगासन, संगीत में भी बच्चे पीछे नहीं रहे. इस महोत्सव में देश के विभिन्न हिस्सों से बच्चे हिस्सा ले रहे हैं.
इस अवसर पर राष्ट्रीय युवा योजना के राष्ट्रीय सचिव करियल सुकुमारन ने बताया कि देश में यह एकमात्र आयोजन है जिसे राष्ट्रीय युवा योजना प्रतिवर्ष आयोजित करती है और देश भर के बच्चे स्वेच्छानुसार उत्साहपूर्ण तरीके से भाग लेते हैं.

महात्मा गांधी सेवा आश्रम के सचिव रनसिंह परमार ने बताया कि बाल महोत्सव के 1200 बालक-बालिकाएं हिस्सा ले रहे हैं. इस मौके पर महाराष्ट्र से आए बाल विजय भाई तथा 24 राज्यों से आए शिक्षक एवं शिक्षिकाएं भी मौजूद रहीं. यह महोत्सव 29 नवंबर तक चलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज