MP bypoll 2020: ग्वालियर में कितनी मुश्किल BJP की राह, जयभान सिंह ने दिए ये संकेत  
Bhopal News in Hindi

MP bypoll 2020: ग्वालियर में कितनी मुश्किल BJP की राह, जयभान सिंह ने दिए ये संकेत  
जय भान सिंह पवैया ने एक ट्वीट किया है.

Madhya Pradesh By-election: पूर्व कैबिनेट मंत्री जय भान सिंह पवैया (Jai Bhan Singh Powaiya) ने नाराज़गी जाहिर करते हुए अपने एक ट्वीट (Tweet) में लिखा है कि मध्य प्रदेश के नए मंत्री जब ग्वालियर आए तो वीरांगना लक्ष्मी बाई की समाधी पर दो फूल चढ़ाने क्यों नहीं गए?

  • Share this:
भोपाल. उपचुनाव (By-Election) के रण में ग्वालियर (Gwalior) में बीजेपी (BJP) की राह मुश्किल होने जा रही है. इस बात के संकेत खुद बीजेपी को अपने घर से ही मिल रहे हैं. बीजेपी के वो नेता जो सिंधिया और उनके समर्थकों के खिलाफ विरोध का सबसे बड़ा झंडा बुलंद करते थे उनकी बीजेपी में एंट्री पर खुलकर तो कुछ नहीं बोल रहे, लेकिन इशारों में अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. ग्वालियर चंबल संभाग के कद्दावर नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री जयभान सिंह पवैया के हालिया ट्वीट से भी ऐसे ही संकेत मिले हैं. जय भान सिंह पवैया (Jai Bhan Singh Powaiya) ने नाराज़गी जाहिर करते हुए अपने एक ट्वीट (Tweet) में लिखा है कि मध्य प्रदेश के नए मंत्री जब ग्वालियर आए तो वीरांगना लक्ष्मी बाई की समाधी पर दो फूल चढ़ाने क्यों नहीं गए?  याद रखें यह प्रजातंत्र और मंत्री परिषद शहीदों के लहू से ही उपजे हैं, इतना तो बनता है.

क्या है नाराज़गी की वजह

दरअसल, जय भान सिंह पवैया ने यह ट्वीट इसलिए किया है क्योंकि मंत्री बनने के बाद सिंधिया समर्थक कुछ मंत्री वापस ग्वालियर पहुंचे थे. ग्वालियर पहुंचने के बाद वह राजमाता विजयाराजे सिंधिया और माधव राव सिंधिया की छतरी पर तो गए लेकिन ग्वालियर में ही स्थित वीरांगना लक्ष्मी बाई की समाधि स्थल पर जाना मुनासिब नहीं समझा. जय भान सिंह पवैया शुरू से ही सिंधिया के खिलाफ विरोध का झंडा बुलंद करते आए हैं. अब जबकि सिंधिया और उनके समर्थक बीजेपी में शामिल हो गए हैं तो फिर उनकी नाराजगी इसी तरह इशारों में सामने आ रही है.



ये भी पढ़ें: हॉर्स ट्रेडिंग केस: SOG ने दो खान व्यवसायियों को किया गिरफ्तार, सरकार गिराने की थी साजिश! 
बीजेपी नेताओं के सियासी भविष्य पर खतरा ?

ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक विधायकों के बीजेपी में शामिल होने के बाद जय भान सिंह पवैया समेत ऐसे कई बीजेपी नेता है जिन्हें अपना सियासी भविष्य दांव पर लगाना पड़ा है. ग्वालियर सीट पर ही जयभान सिंह को सिंधिया समर्थक प्रद्युमन सिंह तोमर से 2018 विधानसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा था. अब जबकि प्रद्युमन सिंह तोमर बीजेपी में शामिल हो गए हैं और मंत्री बन गए हैं तो फिर उनके दोबारा इसी सीट से चुनाव लड़ने की पूरी संभावना है. ऐसे में जय भान सिंह पवैया प्रद्युमन सिंह तोमर के लिए अब पार्टी की खातिर प्रचार करते नज़र आ सकते हैं. ऐसे में उनका खुद का राजनीतिक भविष्य दांव पर लग सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज