MP: 28 सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का आज हो सकता है ऐलान, शिवराज सरकार के भविष्य का होगा फैसला

मध्य प्रदेश में आज उप चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है.
मध्य प्रदेश में आज उप चुनाव की तारीखों का ऐलान हो सकता है.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में आज चुनाव आयोग उपचुनाव (MP Bye Election) की तारीखों का ऐलान कर सकता है. प्रदेश की रिक्त हुईं 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 12:25 PM IST
  • Share this:
भोपाल. प्रदेश में उपचुनाव (MP Bye-Election) का काउंटडाउन मंगलवार से शुरू हो सकता है. चुनाव आयोग 29 सितंबर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान कर सकता है. प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर आज तारीखों का ऐलान हो सकता है. वहीं चुनाव आयोग (Election commission) की तारीखों के ऐलान से पहले बीजेपी और कांग्रेस में काफी पहले चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है. 28 सीटों में से 25 सीटें कांग्रेस विधायकों के दल बदलने के बाद खाली होने के कारण उपचुनाव की स्थिति वाली बनी है, जबकि तीन सीटें विधायकों के निधन के कारण विधानसभा सीटें खाली हुई हैं.

जिन सीटों पर उपचुनाव होना है उनमें सुमावली, मुरैना, दिमनी, अंबाह, मेहगांव, गोहद, ग्वालियर, ग्वालियर पूर्व, डबरा, भांडेर, करेरा, पोहरी, बमोरी, अशोकनगर, मुंगावली, सुरखी, सांची, अनूपपुर, सावेर, हाटपिपलिया, सुवासरा, बदनावर, आगर मालवा, जोरा, नेपानगर, बड़ा मलहरा, मांधाता और ब्यावरा विधानसभा सीट शामिल हैं.

MP के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा मामले में आया नया मोड़, लड़की ने पुलिस में दी शिकायत



बता दें कि 28 सीटों में से कांग्रेस ने 24 सीटों पर उम्मीदवारों के नामों का ऐलान कर दिया है. वहीं, बहुजन समाज पार्टी ने 8 सीटों पर उम्मीदवार घोषित किए हैं, जबकि बीजेपी ने अभी तक उम्मीदवारों के नाम का ऐलान नहीं किया है. हालांकि, यह माना जा रहा है कि 28 में से 25 सीटों पर कांग्रेस से आए नेताओं को ही बीजेपी अपना उम्मीदवार घोषित करेगी. इसके लिए बीजेपी ने उन्हें चुनाव लड़ने की हरी झंडी पहले ही दे दी है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि हमारे उम्मीदवार तय हैं.
मध्य प्रदेश विधानसभा के समीकरण पर नजर डालें तो प्रदेश में विधानसभा में कुल सदस्यों की संख्या 230 है, जिनमें से 28 सीटें खाली हैं. विधानसभा में मौजूदा वक्त में बीजेपी के पास 107 कांग्रेस के पास 88, बसपा के पास दो, सपा के पास एक और निर्दलीय 4 विधायक हैं. प्रदेश की सत्ता में बने रहने के लिए किसी भी राजनीतिक दल को 116 विधायकों की जरूरत होती है. ऐसे में बीजेपी को सत्ता में बने रहने के लिए 9 विधायक और कांग्रेस को 28 सीटें जीतने की चुनौती है. बहरहाल चुनाव आयोग के तारीखों के ऐलान के बाद प्रदेश का सियासी माहौल तेजी के साथ बदलने की उम्मीद है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज