• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • रेलवे के खिलाफ विद्युत नियामक आयोग जाने की तैयारी में कमलनाथ सरकार, ये है कारण

रेलवे के खिलाफ विद्युत नियामक आयोग जाने की तैयारी में कमलनाथ सरकार, ये है कारण

अपना घाटा पूरा करने सबसे बड़े बकाएदार से वसूली करेगा मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश कभी अपने सबसे बड़े बिजली (Electricity) उपभोक्ता रहे भारतीय रेलवे (Indian Railway) के खिलाफ विद्युत नियामक आयोग में प्रकरण दर्ज करने की तैयारी में है. राज्य सरकार ने बिजली कंपनियों को नियामक आयोग के माध्यम से रेलवे पर निकल रही बकाया राशि को वसूलने के निर्देश दिए हैं.

  • Share this:
भोपाल. जानकारी के मुताबिक प्रदेश से बिजली की खरीदी कर ट्रेन को दौड़ाने वाले भारतीय रेलवे पर प्रदेश की बिजली कंपनियों की बकाया राशि 882 करोड़ निकल रही है. रेलवे पर क्रॉस सब्सिडी और अतिरिक्त सरचार्ज के कारण 882 करोड़ का बकाया है जिसे वसूलने के लिए अब सरकार ने बिजली कंपनियों (Electricity Companies) को निर्देश दिए हैं. ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह (Priyavrat singh) ने बिजली कंपनियों को निर्देश दिए है कि भारतीय रेलवे समेत सात बड़े बिजली उपभोक्ताओं पर निकल रही 188 करोड़ की राशि को वसूलने के लिए नियम प्रक्रिया के मुताबिक कार्यवाही करें.

7 बड़े बकायादार निशाने पर
ऊर्जा विभाग ने ओपन एक्सेस के जरिए बिजली लेने वाले 7 बड़े उपभोक्ताओं से बकाया राशि को वसूलने को कहा है. जिन प्रकरणों में बिजली के बड़े उपभोक्ताओं ने कोर्ट से से स्थगन लिया है उन लंबित प्रकरणों में जल्द सुनवाई के लिए भी आवेदन लगाने के निर्देश दिये गए हैं. दरअसल प्रदेश में साल 2018 में बिजली कंपनियों पर कुल रूपये 37963 करोड़ घाटा था, जो साल 2019 में बढ़कर 44975 करोड़ से ज्यादा हो गया है.

घाटे को दूर करने शुरु की वसूली
बिजली कंपनियों के घाटे को दूर करने के लिए सरकार ने पहले बकाया बिजली बिलों की वसूली के निर्देश दिए हैं, जिसके अच्छे नतीजे सरकार को मिले हैं. इससे बिजली कंपनियों के राजस्व में खासा इजाफा हुआ है. अब बिजली कंपनियां उन बड़े बिजली बकायादारों से बिलों की लंबित वसूली लेने की तैयारी में है जो प्रदेश से बिजली की खरीद कर बकाया राशि देने में आनाकानी कर रहे हैं. प्रदेश से बिजली खरीदी के सबसे बड़े उपभोक्ता रहे भारतीय रेलवे ने प्रदेश में महंगी बिजली होने का हवाला देकर खरीदी को जारी रखने से किनारा कर लिया था, लेकिन अब तक रेलवे ने राज्य के बकाया राशि का भुगतान नही किया है. अब सरकार ने बिजली कंपनियों से कहा है कि वो बकाया राशि को वसूलने की कार्यवाही करें.

ये भी पढ़ें -
MP में लागू होगा पुलिस कमिश्नर सिस्टम ! CM कमलनाथ 26 जनवरी को कर सकते हैं ऐलान

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज