एनीमिया से जूझ रहे जर्मन शेफर्ड को दूसरे कुत्ते का खून देकर बचाई जान..

नरसिंहपुर जिले में एक महीने से खून की कमी से जूझ रहे जर्मन शेफर्ड डॉग को उसी नस्ल के दूसरे डॉग का ब्लड चढ़ाकर इलाज किया गया.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 26, 2019, 12:03 PM IST
एनीमिया से जूझ रहे जर्मन शेफर्ड को दूसरे कुत्ते का खून देकर बचाई जान..
एनीमिया से जूझ रहे जर्मन शेफर्ड को दूसरे कुत्ते का खून देकर बचाई जान.. (सांकेतिक तस्वीर)
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 26, 2019, 12:03 PM IST
आम तौर हमने इंसानों को ही खून देकर दूसरे व्यक्ति की जान बचाते देखा है, लेकिन इस बार एक जानवर ने अपना खून देकर दूसरे जानवर की जान बचाई है. ताजा मामला मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले का है. यहां एक महीने से खून की कमी से जूझ रहे जर्मन शेफर्ड डॉग को उसी नस्ल के दूसरे डॉग का ब्लड चढ़ाकर इलाज किया गया. आपको बता दें कि एनीमिक डॉग का हीमोग्लोबिन काफी कम हो गया था. पशु चिकित्सकों की सलाह पर डॉग को 90 एमएल ब्लड चढ़ाया गया है. जिस डॉग का ब्लड निकाला गया, वह पूरी तरह से स्वस्थ है. डॉक्टरों का कहना है कि एनीमिक डॉग भी जल्द ही ठीक हो जाएगा.

6 साल का जर्मन शेफर्ड डॉग करीब एक माह से बीमार था

इधर, रौंसरा निवासी वंदना जाटव ने बताया कि उनका 6 साल का जर्मन शेफर्ड नस्ल का डॉग करीब एक महीने से बीमार था. लगातार इलाज के बावजूद उसकी हालत लगातार बिगड़ रही थी. जब दवाइयों से आराम नहीं मिला तो पशु चिकित्सकों ने उसे खून चढ़ाने की सलाह दी. उन्होंने ये भी कहा कि जरूरी नहीं कि जर्मन शेफर्ड नस्ल के कुत्ते का ही खून चढ़े, देशी कुत्ते का भी खून चढ़ाया जा सकता है.

खून की कमी-Anemic
6 साल का जर्मन शेफर्ड डॉग करीब एक माह से बीमार था (सांकेतिक तस्वीर)


वंदना ने समस्या के संबंध में जब कोसमखेड़ा निवासी महेंद्र प्रताप सिंह से चर्चा की तो वे अपने घर के पालतू उसी नस्ल के डॉग का खून देने के लिए तैयार हो गए. वे डॉग को लेकर अस्पताल पहुंचे, जहां पशु चिकित्सक ने डॉग का ब्लड निकालकर एनीमिक डॉग को चढ़ाया.

इस तरह मिला एनीमिक कुत्ते को खून 

संबंधित मामले में पशु चिकित्सक डॉ. संजय कुमार मांझी ने बताया कि वंदना जाटव का डॉग एनीमिक था, उसमें खून की काफी कमी थी. इसके लिए उन्होंने दवा दिया, लेकिन आराम नहीं मिलने पर उन्होंने फिर उसे खून चढ़ाने का निर्णय लिया. डॉग में हीमोग्लोबिन कम होने के कारण वह कमजोर हो गया था.
Loading...

ये भी पढ़ें:- कोर्ट ने बयान से पलटने पर सबक सिखाने के लिए दिया ये आदेश

ये भी पढ़ें:- कलेक्टर बनीं पैडवुमन, महिलाओं में फैलाएंगी जागरूकता
First published: July 26, 2019, 10:39 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...