बीस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए यूनियन बैंक का ब्रांच मैनेजर गिरफ्तार
Narsinghpur-Madhya-Pradesh News in Hindi

बीस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए यूनियन बैंक का ब्रांच मैनेजर गिरफ्तार
यूनियन बैंक के बार जमा भीड़

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के चलते फर्नीचर के लिए पांच लाख रुपए के बैंक लोन की किश्त और आरटीजीएस करने के नाम पर ब्रांच मैनेजर ने फरियादी अनिल विश्वकर्मा से 60 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की थी. इस रकम की पहली किश्त के रूप में फरियादी 20000 रुपए देने के लिए बैंक जा रहा था.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव के तहत आचार संहिता लगने के बाद लगातार रिश्वतखोरी के मामले सामने आ रहे हैं. नरसिंहपुर जिले के गाडरवारा में यूनियन बैंक के ब्रांच मैनेजर राकेश झा को सीबीआई ने बीस हजार रुपये की रुपए की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है. हालांकि इस मामले में सीबीआई का कोई भी अधिकारी अभी जानकारी देने के लिए तैयार नहीं है और फरियादी भी कुछ नहीं बता रहा है.

जानकार सुत्रों में मिली खबर के अनुसार जबलपुर सीबीआई की छह सदस्यीय टीम यूनियन बैंक के ब्रांच मैनेजर से देर रात तक पूछताछ कर रही थी. बताया जा रही है कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के चलते फर्नीचर के लिए पांच लाख रुपए के बैंक लोन की किश्त और आरटीजीएस करने के नाम पर ब्रांच मैनेजर ने फरियादी अनिल विश्वकर्मा से 60 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की थी. इस रकम की पहली किश्त के रूप में फरियादी 20000 रुपए देने के लिए बैंक जा रहा था.

सीबीआई ने रिश्वतखोरी के आरोपी बैंक मैनेजर को 20000 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया है. आपको बता दें कि पांच अक्तूबर से प्रदेश में आचार संहिता लगने के बाद से रिश्वतखोरों के पकड़े जाने की यह तीसरी घटना है. बीते करीब 20 दिन में नरसिंहपुर जनपद की सीईओ श्वेता विसेन 10000 रुपए की रिश्वत और गोटेगांव एसडीएम रहे रमेश बंशकार 2 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए लोकायुक्त के हत्थे चढ़े हैं.



यह भी पढ़ें-  अजब एमपी का गजब मामलाः किस्तों में रिश्वत लेते अफसर रंगे हाथ गिरफ्तार



यह भी पढ़ें-  मध्य प्रदेश में नहीं थम रहा रिश्वत का खेल, 24 घंटे में पकड़े गए तीन रिश्वतखोर

यह भी पढ़ें-  पोस्ट ऑफिस का अधिकारी पांच हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading