किसानों की सम्मान यात्रा से किसान नदारद, आयोजन को बताया 'फिजूलखर्ची'

मध्यप्रदेश में किसानों की सम्मान यात्राओं से खुद किसान ही नदारद नजर आ रहा है. किसानों के सम्मान में यात्राएं निकाली जा रहीं हैं उन्हें उनकी फसलों का बोनस बांटा जा रहा है बावजूद किसान खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं.

Ashish Jain
Updated: April 17, 2018, 9:56 AM IST
किसानों की सम्मान यात्रा से किसान नदारद, आयोजन को बताया 'फिजूलखर्ची'
किसानों के इंतजार में खाली कुर्सियां. Photo:news18
Ashish Jain
Ashish Jain
Updated: April 17, 2018, 9:56 AM IST
मध्यप्रदेश में किसानों की सम्मान यात्राओं से खुद किसान ही नदारद नजर आ रहा है. किसानों के सम्मान में यात्राएं निकाली जा रहीं हैं उन्हें उनकी फसलों का बोनस बांटा जा रहा है बावजूद किसान खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं. प्रदेश के कृषि प्रधान नरसिंहपुर जिले में कहीं अरहर घोटाले में किसानों का भुगतान फंसा है तो कहीं शुगर मिलों में भुगतान, ऐसे में भव्य मंच की चमक दमक के बीच उन्हें रिझाने की बातें अब उन्हें फिजूल नजर आ रही हैं.

नरसिंहपुर के करीब 19 हजार किसानों को पिछले साल की धान और गेहूं के बोनस के इकतीस करोड़ राशि के वितरण के लिए विभिन्न जनप्रतिनिधियों की अगुवाई में कृषि मंडी नरसिंहपुर में भव्य आयोजन किया गया. किसानों के लिए आयोजन था, लिहाजा किसानों को खुशी खुशी इस आयोजन में शामिल होना चाहिए था बावजूद किसान इस आयोजन से ऊबते नजर आए. दर्जनों कुर्सियां किसानों के इंतजार में खाली ही नजर आई.

आयोजन में आए किसान नेतराम को पैसे की जरूरत है पर वे अपना चना नहीं बेच पा रहा है तो वहीं कमलेश सहित 129 किसानों को पांच माह पहले उड़द का भुगतान नहीं मिल सका. राहर घोटाले के चलते कई किसानों के पैसे फंसे हैं तो वहीं जिले की शुगर मिल में किसानों के करोड़ों रुपए अटके पड़े हैं. किसानों का कहना है कि ऐसे आयोजन फिजूल है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
-->