लाइव टीवी

रात में फोन किया सुबह आई एंबुलेंस, अस्पताल के रास्ते में गर्भवती की मौत

Ashish Jain | ETV MP/Chhattisgarh
Updated: July 2, 2017, 6:57 PM IST
रात में फोन किया सुबह आई एंबुलेंस, अस्पताल के रास्ते में गर्भवती की मौत
मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी आरपी फौजदार फोटो- ईटीवी

नरसिंहपुर में फिर लचर स्वास्थ्य व्यवस्था की बेदी पर एक मां और दुनिया में आने वाली उसकी सन्तान की बलि चढ़ गई. गर्भवती को समय पर एंबुलेंस सेवा न मिल सकी और देरी से पहुंची एम्बुलेंस में अस्पताल आते समय रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर में एक बार फिर लचर स्वास्थ्य व्यवस्था की बेदी पर एक मां और दुनिया में आने वाली उसकी सन्तान की बलि चढ़ गई. गर्भवती को समय पर एंबुलेंस सेवा न मिल सकी और देरी से पहुंची एम्बुलेंस में अस्पताल आते समय रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया.

खराब स्वास्थ्य सेवाओं के लिए प्रदेश में चर्चित नरसिंहपुर जिले से एक बार फिर स्वास्थ्य व्यवस्था की  तस्वीर सामने है. घटना जिले के ग्वारी गांव की 22 साल की आदिवासी महिला विनीता भरिया ही है. शनिवार की रात उसे प्रसव पीड़ा हुई. जिसके लिए गांव की आशा कार्यकर्ता ने रात ग्यारह बजे संजीवनी एम्बुलेंस 108 के कॉल सेंटर पर काल किया.

हद तब हो गई जब एम्बुलेंस के इंतज़ार में रात बीतती चली गई और गर्भवती को लेकर सुबह पांच बजे जब एम्बुलेंस करेली के सरकारी अस्पताल पहुंची तब तक विनीता ने दम तोड़ दिया.

परिजनों और विनीता की बहन का साफ़ कहना है कि विनीता को समय पर इलाज मुहैया हो जाता तो उसे बचाया जा सकता था. अफ़सोस सरकारी स्वास्थ्य व्यवस्था की खामी से 108 एम्बुलेंस देर से पहुंची. इसकी वजह से उसे समय पर इलाज नहीं मिल सका और एक मां अपनी कोख में पल रहे बच्चे के साथ दुनिया से विदा हो गई.

जिले के मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी आरपी फौजदार ने पूरे मामले को गंभीर माना है और कार्रवाई करने की बात कही है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नरसिंहपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 2, 2017, 6:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर