लाइव टीवी

नन्हीं साक्षी प्रभु राम की कथा के साथ बेटियों के प्रति कर रही जागरूक

asish | News18 Madhya Pradesh
Updated: March 31, 2018, 6:21 PM IST
नन्हीं साक्षी प्रभु राम की कथा के साथ बेटियों के प्रति कर रही जागरूक
राम कथा करतीं साक्षी अौर उनकी बहनें

नरसिंहपुर के बरमान की रहने वाली 9वीं की छात्रा साक्षी पिछले दो सालों से रामकथा का जगह-जगह वाचन कर रहीं हैं. साक्षी तीन बहनें हैं.ऐसे में बेटियों के प्रति समाज के भेद भाव करने के नजरिये को उन्होंने जाना और फिर लोगों को जागरूक करने के लिए रामकथा प्रारम्भ की.

  • Share this:
शनिवार को हनुमान जयंती है. पवनसुत हनुमान को मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु राम के अनन्य भक्त के तौर पर जाना जाता है. ऐसे प्रभु राम जिनके सुमिरन से भक्तों का कल्याण होता चला आ रहा है. ऐसी ही 13 साल की एक नन्हीं भक्त प्रभु राम की कथाओं का जगह जगह वाचन कर लोगों को बेटियों के प्रति जागरूक कर रही हैं. साथ ही लोगों को सर्वधर्म समभाव का संदेश भी दे रहीं हैं

नरसिंहपुर के बरमान की रहने वाली 9वीं की छात्रा साक्षी पिछले दो सालों से रामकथा का जगह-जगह वाचन कर रहीं हैं. साक्षी तीन बहनें हैं.ऐसे में बेटियों के प्रति समाज के भेद भाव करने के नजरिये को उन्होंने जाना और फिर लोगों को जागरूक करने के लिए रामकथा प्रारम्भ की.

साक्षी की बड़ी बहन निधि भी व्यास गददी पर बैठ पिछले दो सालों से भागवत कथा का पाठ भक्तों को श्रवण करा रहीं हैं. साक्षी बताती हैं कि लोगों को धर्म के सन्देश के साथ बेटी बचाने और धार्मिक समरसता की बात करना सबसे बढ़िया साबित होता है. लोग ऐसे माहौल के बीच आसानी से बात समझते हैं. ऐसे में गांव गांव से लेकर शहरों तक साक्षी भक्तों को पवनसुत हनुमान के साथ प्रभु राम की भक्ति की कथा तो सुना ही रहीं हैं साथ ही इस दौरान बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओं का अनूठा सन्देश भी दे रहीं हैं.

मंच पर साक्षी रामकथा कहतीं हैं तो दो साल बड़ी बहन निधि भागवत कथा के जरिए भक्तों को भगवान कृष्ण की संगीतमय लीलाओं का बखान करतीं हैं. दोनों बहिनों ने वृंदावन में रामकथा और भागवत कथा का पाठ सीखा है. दोनों देश मे कई बड़े स्थानों पर धार्मिक आयोजनों में शिरकत कर चुकीं हैं.उन्हें सुनने भक्तों की अपार भीड़ पंडाल में होती है.

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नरसिंहपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 31, 2018, 6:21 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर