लाइव टीवी

नशे के खिलाफ जागरूकता बढ़ाने दो लाख किमी साइकिल चला चुके हैं 52 साल के अमनदीप
Narsinghpur-Madhya-Pradesh News in Hindi

News18
Updated: October 15, 2014, 10:26 AM IST
नशे के खिलाफ जागरूकता बढ़ाने दो लाख किमी साइकिल चला चुके हैं 52 साल के अमनदीप
नशे के खिलाफ जिहाद छेड़ चुके 52 साल के अमनदीप ने जागरूकता फैलाने के लिए देश में तकरीबन दो लाख किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर ली है। बेंगलुरू के रहने वाले अमनदीप की यह यात्रा अब भी जारी है। नई पीढ़ी को नशे से बचाने के लिए साइकिल से भारत भ्रमण पर निकलकर आमजनों में अलख जगा रहे अमन सोमवार को नरसिंहपुर पहुंचे। यहां भी उन्होंने स्कूली बच्चों और आमजनों को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित किया।

नशे के खिलाफ जिहाद छेड़ चुके 52 साल के अमनदीप ने जागरूकता फैलाने के लिए देश में तकरीबन दो लाख किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर ली है। बेंगलुरू के रहने वाले अमनदीप की यह यात्रा अब भी जारी है। नई पीढ़ी को नशे से बचाने के लिए साइकिल से भारत भ्रमण पर निकलकर आमजनों में अलख जगा रहे अमन सोमवार को नरसिंहपुर पहुंचे। यहां भी उन्होंने स्कूली बच्चों और आमजनों को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित किया।

  • News18
  • Last Updated: October 15, 2014, 10:26 AM IST
  • Share this:
नशे के खिलाफ जिहाद छेड़ चुके 52 साल के अमनदीप ने जागरूकता फैलाने के लिए देश में तकरीबन दो लाख किलोमीटर की साइकिल यात्रा कर ली है। बेंगलुरू के रहने वाले अमनदीप की यह यात्रा अब भी जारी है। नई पीढ़ी को नशे से बचाने के लिए साइकिल से भारत भ्रमण पर निकलकर आमजनों में अलख जगा रहे अमन सोमवार को नरसिंहपुर पहुंचे। यहां भी उन्होंने स्कूली बच्चों और आमजनों को नशे से दूर रहने के लिए प्रेरित किया।

गुरूद्वारा गुरूनानक मिशन, बेंगलुरू में पंजाबी भाषा के शिक्षक पद पर काम कर रहे अमनदीप नशे की वजह से अपने मामा को खोने के बाद नशे के खिलाफ जिहाद छेड़ दिया। तब से उन्होंने नशे से लोगों को बचाने के लिए अपनी नौकरी छोड़ कर जनजागरण का संकल्प लेते हुए देश में साइकिल यात्रा शुरू की। अब तक वह लगभग दो लाख किलोमीटर की यात्रा तय कर चुके हैं।

अपने बारे में बताते हुए अमनदीप ने कहा कि इस यात्रा के दौरान लगभग 25 हजार से अधिक स्कूलों और कॉलेजों के लाखों छात्रों और युवाओं को नशे से दूर रहने के लिए सीख दे रहे हैं। उन्बहोंने बताया कि इसके लिए वह अपने लैपटॉप पर सोशल मीडिया का भी जमकर इस्तेमाल करते हैं।

अमनदीप ने बताया कि उनका असली नाम महादेव रेड्डी है। गुरूद्वारा में पढ़ते हुए उन्हें सिख संप्रदाय अपनी सोच के करीब लगा। इस तरह वह 35 साल पहले सिख सरदार बन गए। अमनदीप के मुताबिक एक दिन में वह 100 से 150 किलोमीटर तक की यात्रा कर लेते हैं। श्रवण सिंह नाम का उनका उनका एक बेटा है, जो अमेरिका में डॉक्टर का काम करता है।

देश के 25 राज्यों की साइकिल यात्रा कर चुके अमनदीप छह भाषाओं के जानकार हैं। कन्नड़, तेलुगू, तमिल, अंग्रेजी, हिन्दी और पंजाबी भाषा में उनके फेसबुक, वाट्सप और ट्विटर पर मैसेज आते हैं, वह उसी भाषा में उनका जवाब देते हैं। अमनदीप कहते हैं कि मौजूदा दौर में 50 फीसदी से ज्यादा युवक नशे के शिकार हैं। वे उन सबको नशा छोड़ने के लिए सिर्फ कहते नहीं, वे उन्हें संकल्प दिलवाते हैं फिर यात्रा पर आगे बढ़ जाते हैं। इनमें से कई युवाओं से वह आगे भी जुड़े रहने की कोशिश करते हैं।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नरसिंहपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2014, 10:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर