• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Inspirational: बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के लिए रोल मॉडल है ये दंपति

Inspirational: बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के लिए रोल मॉडल है ये दंपति

मीणा दंपति पूरे देशभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करवाकर जन जागृति के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या की बुराई के खिलाफ लोगो को जागरूक कर रहे हैं

मीणा दंपति पूरे देशभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करवाकर जन जागृति के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या की बुराई के खिलाफ लोगो को जागरूक कर रहे हैं

मीणा दंपति पूरे देशभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करवाकर जन जागृति के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या की बुराई के खिलाफ लोगो को जागरूक कर रहे हैं

  • Share this:
मध्य प्रदेश के नीमच में भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी ने पिछले 11 वर्षों से देश भर में देश भर में कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी मुहिम छेड़ रखी है, जिसके अंतर्गत वे विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करवाकर जन जागृति के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ लोगों को जागरूक करते हैं. इसमें उनके साथ उनकी पत्नी डॉ हेमलता मीणा भी शामिल हैं.

दरअसल, भारतीय राजस्व सेवा के अधिकारी एच एन मीणा और उनकी पत्नी डॉ हेमलता मीणा अपनी इस मुहिम से लोगों को जागरूक कर रहे हैं. जनवरी 2016 में उन्होंने अपनी मुहिम को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ से भी जोड़ दिया. उनके इस प्रयास को काफी समर्थन मिल रहा है.

मीणा दंपति पूरे देशभर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करवाकर जन जागृति के माध्यम से कन्या भ्रूण हत्या की बुराई के खिलाफ लोगो को जागरूक कर रहे हैं.

इस अभियान के तहत मीणा दंपति करीब 65 हज़ार किलोमीटर यात्रा कर चुके हैं तथा देश की राजधानी दिल्ली व राज्य की राजधानी भोपाल सहित करीब 25 शहरों के 25000 घरों में व्यक्तिगत रूप से बेटी बचाओ के संदेश के साथ दस्तक देकर देश भर के 11 राज्यों में बेटी बचाओ का यह अभियान पिछले 11 वर्ष से देश भर में कई तरीकों से चला चुके हैं.

इसके अंतर्गत 1500 से ज्यादा होनहार बेटियों को सम्मानित कर चुके हैं तथा गरीब किन्तु पढ़ाई में होशियार व पढ़ने और आगे बढ़ने की चाह रखने वाली बेटियों की पढ़ाई में मदद भी कर रहे हैं.

बीते 2017 के आखिरी सप्ताह में भी मीणा दंपति ने जयपुर से नीमच के बीच छुट्टियों का सदुपयोग करते हुए करीब 425 किलोमीटर की दूरी में राष्ट्रीय व राज्य राजमार्गों पर लंबी दूरी तक चलने वाले 600 ट्रको पर कन्या बचाने का संदेश लिखे स्टीकर चस्पा किए. साथ करीब 1100 पर्चे राष्ट्रीय राजमार्गों के साथ साथ लगे ढाबों पर ट्रक चालकों व खलाशियो को बाटें.

देश भर में मुहिम को अच्छी प्रतिक्रिया मिलने के कारण मीणा दंपति ने बेटी बचाओ के लिए 2018 में भी इस मुहिम को जारी रखने का फैसला किया है.

छुट्टियों के समय का सदउपयोग कर मीणा दंपती पिछले 11वर्षो से अपने वेतन के एक हिस्से से बेटियो को बचाने के लिए समाज मे जनजागृति फैलाने हेतु खर्च कर एक अभियान अपने दम पर चला रहे हैं.

मीणा दंपति का मानना है कि इस प्रकार के प्रयासों से एक दिन जरूर देश मे गिरते लिंगानुपात की स्थिति सम्भलेगी और हम लिंगानुपात को बराबरी के स्तर तक ला पाएंगे. लेकिन इसके लिए सरकार के साथ साथ देश के हर नागरिक की जिम्मेदारी है कि वे कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ जंग में भाग लें.

कन्या बचाओ अभियान के इस आंदोलन के तहत जन-जागृति हेतु मीणा दंपति ने इसे सोशल मीडिया के द्वारा भी लोगों के साथ साझा करने के प्रयोजन से एक फेसबुक ग्रुप अब जीने भी दो बेटियों को (Save & Educate Girl Child) भी बनाया है. जिसके 85 हज़ार से ज्यादा सदस्य और फॉलोवर्स हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज