अपना शहर चुनें

States

नीमच फ्यूचर मेकर लाइफकेयर प्राइवेट लिमिटेड चिटफंड कंपनी की संपत्ति को कुर्क करने का जिला कलेक्टर ने दिया आदेश

नीमच में चिटफंड कंपनी के खाते से राशि वसूल करने के लिए न्यायालय ने आदेश दिया है.
नीमच में चिटफंड कंपनी के खाते से राशि वसूल करने के लिए न्यायालय ने आदेश दिया है.

आम जनता को लालच देकर धोखाधड़ी (Fraud) करने वाली चिटफंड कंपनी (Chit fund Company) फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्रा.लि. कंपनी के खाते से ठगी गई राशि को ब्याज समेत वसूलने के लिए न्यायालय (Court) ने आदेश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 24, 2020, 12:10 PM IST
  • Share this:
नीमच. आम जनता को लालच देकर धोखाधड़ी (Fraud) करने वाली चिटफंड कंपनी (Chit fund Company) फ्यूचर मेकर लाइफ केयर प्रा.लि. कंपनी के कर्ताधर्ताओं के खिलाफ दर्ज प्रकरण की सुनवाई के दौरान जिला कलेक्टर (Collector) ने पीड़ितों को बड़ी राहत दी है.

न्यायालय के पीठासीन अधिकारी कलेक्टर जितेंद्र सिंह राजे ने कंपनी के बैंक खातों में जमा राशि से 5 करोड़ 50 लाख रुपये ब्याज सहित कुर्क करने का आदेश दिया है. करीब दो साल पहले फ्यूचर मेकर लाईफ केसर प्रा.लि. एवं एफएमएलसी ग्लोबल मार्केटिंग कंपनी हिसार हरियाणा ने नीमच जिले में ब्रांच खोलकर आर्गेनिक एग्रीकल्चर प्रोडेक्ट किट साढ़े सात हजार रुपए में बेचकर चेन सिस्टम के आधार पर सैकड़ों लोगों से करोड़ों की ठगी की थी.

MP: मालिकाना हक सुलझाने के लिए कुत्ते की होगी DNA जांच, सैंपल लेकर हैदराबाद रवाना हुई पुलिस



इसमें लोगों ने अपनी बचत राशि जमा कराई, लेकिन कंपनी के कर्ताधर्ता उनके करोड़ों रुपए लेकर फरार हो गए. इसके बाद शिकायत के आधार पर मप्र निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2000 के तहत कैंट थाना नीमच में धारा 420 के तहत कंपनी के कर्ताधर्ता के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया था.
इस मामले की सुनवाई करते हुए न्यायलय ने सभी पीड़ितों के पैसे वापस करने का तरीका निकाला है. न्यायालय ने कंपनी के खाते से लोगों से ठगी गई राशि को ब्याज समेत वसूलने का आदेश दिया है. अब न्यायालय के फैसले को सुनने के बाद लोगों को बड़ी उम्मीद जगी है कि उनको भी न्याय मिल सकेगा.

जेल में हैं मामले के आरोपी
धोखाधड़ी के बाद मप्र निक्षेपकों के हितों का संरक्षण अधिनियम 2000 के तहत कैंट थाना नीमच में धारा 420 के तहत कंपनी के कर्ताधर्ता राधेश्याम पिता नाथूलाल सुथार निवासी हिसार हरियाणा, सुंदर पिता ओमप्रकाश सैनी निवासी फतेहाबाद, सुरेशसिंह पिता नारायणसिंह सोनगार निवासी इंदौर व बंशीलाल पिता सोहनलाल सिहाग निवासी फतेहाबाद हरियाणा के खिलाफ केस दर्ज कराया गया था. मामले में राधेश्याम सुतार और सुंदर सैनी को तो हरियाणा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था और सुरेश सिंह को कैंट पुलिस ने गिरफ्तार किया था. सभी आरोपी अभी जेल में हैं. प्रकरण में सुनवाई के लिए राज्य सरकार ने कलेक्टर को सक्षम अधिकारी नियुक्त किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज