होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /मंदसौर जा रहे हार्दिक पटेल गिरफ्तारी के बाद रिहा, पुलिस ने राजस्थान जाकर छोड़ा

मंदसौर जा रहे हार्दिक पटेल गिरफ्तारी के बाद रिहा, पुलिस ने राजस्थान जाकर छोड़ा

Photo-ETV

Photo-ETV

मध्यप्रदेश में किसान आंदोलन के दौरान पुलिस फायरिंग में मारे गए किसानों से मिलने के लिए पाटीदार समाज के युवा नेता हार्दि ...अधिक पढ़ें

    मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस की गोलीबारी में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करने जा रहे गुजरात के युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और उनके चार साथियों को नीमच जिले के नयागांव टोल प्लाजा पर हिरासत में लेने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया.

    हालांकि, कुछ देर बाद उन्हें निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया. रिहाई के बाद पुलिस उन्हें राजस्थान की सीमा के भीतर छोड़ कर आई.

    नीमच के पुलिस अधीक्षक टी.के विद्यार्थी ने बताया, "हार्दिक पटेल को नीमच आने की अनुमति नहीं दी गई थी. इसलिए उन्हें मध्य प्रदेश-राजस्थान की सीमा पर नयागांव टोल प्लाजा पर रोका गया. उनके काफिले में शामिल 20 गाड़ियों में लगभग 150 लोग सवार थे. पटेल और उनके चार साथियों को हिरासत में ले लिया गया, जबकि अन्य को पुलिस ने खदेड़ दिया."

    विद्यार्थी के मुताबिक, "इसके बाद पटेल सहित पांचों को धारा 151 के तहत गिरफ्तार किया गया और बाद में निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया. पुलिसबल पटेल और उनके साथियों को राजस्थान की सीमा के भीतर छोड़कर आई.

    पाटीदार नवनिर्माण सेना के राष्ट्रीय महासचिव अखिलेश कटियार के अनुसार, हार्दिक पटेल उदयपुर से मंदसौर के लिए निकले थे. वह पीड़ित किसानों और किसान नेताओं से मिलने जा रहे थे.

    पुलिस ने किए थे ये इंतजाम

    -हार्दिक पटेल को रोकने के लिए पुलिस ने बंद किया था महू-नसीराबाद हाइवे
    -एमपी पुलिस सहित सीआरपीएफ और एसएएफ के 200 जवान थे तैनात
    -नयागांव बॉर्डर को पुलिस ने किया था सील
    -राजस्थान से सटे सीमावर्ती गांवों पर थी पुलिस की पैनी नजर

    वहीं, सोमवार शाम को उदयपुर पहुंचे हार्दिक पटेल ने कहा था , ' मध्यप्रदेश किसान आंदोलन में पुलिस की गोली से मारे गए किसानों के परिवार से मिलने जा रहे हैं. हमें जानबूझकर रोकने की कोशिश की जा रही है लेकिन जिनका रोकने का काम है वो रोकें, हम हर हाल में मंदसौर जाएंगे और किसानों के परिवारों से मिलेंगे.'

    Tags: Farmer Agitation, Hardik Patel

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें