बाराती बनकर पहुंची 100 अधिकारियों की इनकम टैक्स टीम, तड़के मारा एमपी के सबसे बड़े तेल कारोबारी पर छापा

नीमच में मध्यप्रदेश के सबसे बड़े तेल कारोबारी कैलाश धानुका के करीब आधा दर्जन ठिकानों और धानुका इंडस्ट्रीज में काम करने वाले सभी कर्मचारियों के घर सुबह पांच बजे आयकर विभाग की टीम बाराती बनकर पहुंच गई.

Mustafa Hussain | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 13, 2019, 3:29 PM IST
बाराती बनकर पहुंची 100 अधिकारियों की इनकम टैक्स टीम, तड़के मारा एमपी के सबसे बड़े तेल कारोबारी पर छापा
धानुका इंडस्ट्री का एक ठिकाना
Mustafa Hussain
Mustafa Hussain | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 13, 2019, 3:29 PM IST
मध्यप्रदेश के सबसे बड़े सोयाबीन तेल कारोबारी कैलाश धानुका की धानुका इंडस्ट्रीज के सभी ठिकानों और माहेश्वरी वेयर हाउस के मालिक प्रभुलाल झंवर के यहां आज सुबह पांच बजे आयकर विभाग की टीम ने सर्वे की कार्रवाई शुरू की. आयकर विभाग के इस सर्वे में 100 से ज्यादा अधिकारियों के शामिल होने की खबर है. इस छापे के बाद प्रदेश की सबसे बड़ी सोयाबीन मंडी नीमच में सोयाबीन के भाव 200 रुपये प्रति क्विंटल तक गिर गए. आयकर विभाग की टीम बाराती बनकर शहर में पहुंची, ताकि किसी को रेड की खबर न हो.

नीमच में मध्यप्रदेश के सबसे बड़े तेल कारोबारी कैलाश धानुका के करीब आधा दर्जन ठिकानों और धानुका इंडस्ट्रीज में काम करने वाले सभी कर्मचारियों के घर सुबह पांच बजे आयकर विभाग की टीम बाराती बनकर पहुंच गई. यहां पहुंचकर सभी ठिकानों में टीमों ने प्रवेश करने के बाद मुख्य द्वार पर तालाबंदी कर दी.

कैलाश धानुका मध्यप्रदेश के सबसे बड़े सोयाबीन तेल के उत्पादक है. वे नीमच मंडी में सोयाबीन के सबसे बड़े खरीददार भी है. जानकारी के अनुसार कैलाश धानुका पर आरोप है कि वे अपने रसूख के कारण नीमच मंडी से सोयाबीन की लेवाली दो नंबर से करते हैं. कुछ समय पहले सेल्स टेक्स विभाग की रेड भी उनके ठिकानों पर हुई थी, जो करीब चार दिन तक चली थी. इस रेड में बड़े पैमाने पर नंबर दो का कारोबार पाया गया था.



आपको बता दें की नीमच तेल के बेनामी कारोबार का बड़ा हब है. यहां से राजस्थान की सीमा लगती है. मध्यप्रदेश के तेल कारोबारी तेल बनाकर राजस्थान की सीमा में भेज देते हैं. वहीं इनकी बिलिंग करके अन्य राज्यों में भेजा जाता है. एमपी की सीमा से पूरी तरह दो नंबर में सोयाबीन का तेल निकलता है. जानकारी के अनुसार राजस्थान में जो बिल बनता है वह डिलेवरी के बाद फाड़ दिया जाता है.

जानकार सुत्रों से मिली खबर के अनुसार धानुका इंडस्ट्रीज के कई बेनामी बैंक अकाउंड है, जिनकी जांच भी आयकर विभाग की टीमें करेगी, वहीं कैलाश धानुका रियल एस्टेट का भी काम करते हैं, जिसकी जांच भी आयकर विभाग करेगा. इसके अलावा नीमच के वेयर हाउस मालिक और रियल एस्टेट के कारोबारी प्रभुलाल झंवर के सभी ठिकानों पर भी आयकर का सर्वे चल रहा है.

यह भी पढ़ें-  मंदसौर: अमृत रिफाइनरी के ठिकानों पर आयकर विभाग ने बाराती बनकर मारा छापा

यह भी पढ़ें-  पुलिस की बड़ी कामयाबी: इंदौर से अगवा हुआ अक्षत 24 घंटे बाद सागर में मिला
Loading...

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर