Home /News /madhya-pradesh /

तीन ज़िलों में फैली है मंदसौर सीट, राहुल गांधी की भरोसेमंद नेता कर चुकी हैं नुमाइंदगी

तीन ज़िलों में फैली है मंदसौर सीट, राहुल गांधी की भरोसेमंद नेता कर चुकी हैं नुमाइंदगी

मंदसौर सीट

मंदसौर सीट

मंदसौर संसदीय क्षेत्र में कुल 1673563। मतदाता हैं. इनमें से 864076 पुरुष, 809465 महिला और 14 थर्ड जेंडर के मतदाता हैं.

    मंदसौर-नीमच लोकसभा क्षेत्र तीन ज़िलों के क्षेत्र मिलाकर बना है. इसमें मंदसौर, नीमच के साथ रतलाम की जावरा सीट शामिल है. बीजेपी के दिग्गज नेता स्व. लक्ष्मीनारायण पांडेय यहां से सांसद रह चुके हैं. 2009 के चुनाव में कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन इस हैविवेट नेता को हराकर संसद पहुंची थीं.

    संसदीय क्षेत्र में 2013 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 8 में से 7 और कांग्रेस एक सीट पर जीती थी. 2018 में भी 2013 ही रिपीट हुआ है. भाजपा सात पर अपना कब्जा बरकरार रखने में कामयाब हुई और कांग्रेस अपनी एक सीट बचाने में सफल रही. जहां तक 2014 के लोकसभा चुनाव में हार जीत का अंतर है उसमें 2014 में भाजपा के वर्तमान सांसद सुधीर गुप्ता 333000 मतों से जीते थे.

    ये भी पढ़ें - कम्प्यूटर बाबा ने अब कमलनाथ सरकार को धमकाया, बोले-कान पकड़कर हटा देंगे

    यदि मतदाताओं की बात करें तो मंदसौर संसदीय क्षेत्र में कुल 1673563। मतदाता हैं. इनमें से 864076 पुरुष, 809465 महिला और 14 थर्ड जेंडर के मतदाता हैं. इसमें मंदसौर जिले की 4 विधानसभा सीटों के कुल मिलाकर 917784 मतदाता, नीमच जिले की 3 विधानसभा सीटों के कुल मिलाकर 545854 मतदाता और रतलाम जिले की जावरा विधानसभा सीट के 209925 मतदाता शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें - Lok Sabha Elections : मध्य प्रदेश के 20 कांग्रेस प्रत्याशियों के नाम का आज होगा एलान!

    मीनाक्षी नटराजन को मंदसौर सीट से टिकट मिले या नहीं, इसे लेकर कांग्रेस में घमासान मचा हुआ है. पिछले चुनाव ३ लाख वोटो से अधिक हारने के बाद पार्टी में गुटबाजी को लेकर जिस तरह के हालत बने हैं उससे कार्यकर्ता नाराज़ हैं. वो दबी ज़ुबान से मीनाक्षी नटराजन का विरोध कर रहे हैं, लेकिन राहुल गांधी की विश्वास पात्र होने के कारण कोई खुलकर इसकी मुखालफत नहीं कर पा रहा.

    मीनाक्षी नटराजन पिछला चुनाव 3 लाख वोटों के बड़े अंतर से हारी थीं. वो इलाके में अपने विरोध से वाकिफ हैं. वो बड़ी विनम्रता से बोलती हैं, आप सब जानते हैं कि पिछली बार एक बड़े अंतर से मैं निर्वाचित नहीं हो पाई थी. इसलिए अब पार्टी मेरे बारे में फैसला लेगी. वो आगे कहती हैं, आपको तय करके बताना चाहती हूं कि प्रत्‍याशी चाहे जो भी हो, उस प्रत्‍याक्षी के लिए हम सब मिलकर प्रयास करेंगे और जो विश्‍वास हमने खोया है उसे फिर से हासिल करेंगे.

     

    Tags: All India Congress Committee, Madhya Pradesh Lok Sabha Constituencies Profile, Madhya pradesh news, Rahul gandhi

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर