लाइव टीवी

ये हैं MP के पैडमैन, महिलाओं के लिए बनाते हैं सैनेटरी नैपकिन

Mustafa Hussain | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 20, 2019, 7:33 PM IST
ये हैं MP के पैडमैन, महिलाओं के लिए बनाते हैं सैनेटरी नैपकिन
MP के पैडमैन भपेन्द्र खोईवाल-महिलाओं के लिए बनाते हैं सैनेटरी नैपकिन

भूपेन्द्र ने अपनी इस छोटी-सी फर्म का नाम ऐश्वर्या इंटरप्राइजेस रखा है. इस लघु उद्योग से अब तक लगभग 50,000 सैनेटरी नेपकिन (sanitary napkins) बनाकर राजधानी भोपाल (bhopal) सहित दूसरे शहरों में भेजे जा चुके हैं

  • Share this:
नीमच. मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में भी एक पैडमैन हैं. अक्षय कुमार (akshya kumar) की फिल्म पैडमैन (Padman) से ये इतना प्रेरित हुए कि अपने छोटे से गांव में सैनेटरी नैपकिन (Sanitary napkin) बनाना शुरू किया. अपने इस काम में महिलाओं को शामिल कर उन्हें भी रोज़गार दिया. इस पैडमैन का नाम है-भूपेंद्र खोईवाल

नीमच ज़िले में एक छोटा सा खोर गांव है. भूपेंद्र खोईवाल यहीं रहते हैं. लेकिन अब इनकी नयी पहचान है. अब ये भूपेन्द्र के बजाए पैडमैन के नाम से पहचाने जाने लगे हैं. भूपेन्द्र ने अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन देखी थी. बस उसका ऐसा असर इन पर पड़ा कि महिलाओं की मदद करने की इन्होंने ठान ली और सैनेटरी नैपकिन बनाना शुरू कर दिया.

महिलाओं को रोज़गार
भूपेन्द्र एक साथ कई काम कर रहे हैं. वो सैनेटरी नैपकिन भी बना रहे हैं. महिलाओं को स्वच्छता के लिए जागरुक कर रहे हैं और उन्हें रोज़गार भी दे रहे हैं. भूपेन्द्र ने अपने खर्च से सैनेटरी नैकपिन बनाने की एक छोटी सी यूनिट लगायी है. महिलाओं की सेहत का ख्याल कर ये पूरे ज़िले में जागरुकता अभियान भी चला रहे हैं. वो सस्ती दर पर महिलाओं को सैनेटरी नैपकिन देते हैं. अपनी यूनिट में 15 महिलाओं को नौकरी भी दी है.

ऐश्वर्या इंटरप्राइजेस
भूपेन्द्र ने अपनी इस छोटी-सी फर्म का नाम ऐश्वर्या इंटरप्राइजेस रखा है. इसमें उन्होंने अपने आसपास की कई महिलाओं को रोज़गार देकर आत्मनिर्भर बनाया. धीरे धीरे कई महिलाओं ने इस काम में हाथ बंटाना शुरू किया. इस लघु उद्योग से अब तक लगभग 50,000 सैनेटरी नेपकिन बनाकर राजधानी भोपाल सहित दूसरे शहरों में भेजे जा चुके हैं. महज़ 20 रूपए में 8 नैपकिन का पैक इनके यहां उपलब्ध है.बड़ी कंपनियों के पैक इससे कहीं ज़्यादा महंगे मिलते हैं.


Loading...

घर-घर दस्तक
महिलाओं की समस्याओं को दूर करने और स्वच्छता की ओर उन्हें अग्रसर करने के लिए लगातार यह पैडमैन अपनी टीम के साथ गांवों का दौरा करता है. अपनी टीम के साथ घर-घर जाकर महिलाओं को पर्सनल हाईजीन और हेल्थ के बारे में बताता है. फ़िल्म 'पैडमैन' तमिलनाडु के अरुणाचलम मुरुगनाथम की ज़िंदगी पर आधारित थी. (नीमच से मुस्तफा हुसैन की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें-क्या अनिता नर्रे याद हैं आपको? इन्हीं पर बनी थी फिल्म-टॉयलेट एक प्रेमकथा

Facebook पर फेक अकाउंट बना लिखा- मां बीमार हैं, खाते में डलवा लिए 3 हज़ार डॉलर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नीमच से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 6:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...