Home /News /madhya-pradesh /

रावण पर भी जीएसटी की मार, महंगाई के चलते कम हो गया 'बुराई के प्रतीक' का कद

रावण पर भी जीएसटी की मार, महंगाई के चलते कम हो गया 'बुराई के प्रतीक' का कद

महंगाई के चलते रावण के पुतले की ऊंचाई को कम कर दिया गया है, जिससे की बजट को कम किया जा सके

महंगाई के चलते रावण के पुतले की ऊंचाई को कम कर दिया गया है, जिससे की बजट को कम किया जा सके

महंगाई के चलते रावण के पुतले की ऊंचाई को कम कर दिया गया है, जिससे की बजट को कम किया जा सके

    जीएसटी लागू होने का असर कई चीजों के साथ इस बार के रावण दहन और रामलीला के आयोजन पर भी पड़ रहा है. जीएसटी के चक्कर में रावण दहन कार्यक्रम के आयोजकों का बजट गड़बड़ा गया है. वहीं, रावण बनाने वाले कारीगरों ने भी अपनी कीमतें बढ़ा दी है.

    जीएसटी की मार से रावण दहन के कार्यक्रम पर पड़ने वाले मध्य प्रदेश का नीमच शहर भी अछूता नहीं है. यहां दशहरे पर रावण दहन जीएसटी लागू होने के चलते महंगा होने जा रहा है. जिसे लेकर रावण दहन करने वाली संस्थाओ को अपना बजट बढ़ाना पड़ रहा है.

    आयोजनकर्ताओं ने पिछले बार, रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ सहित आतंकवाद और समसामयिक मुद्दों पर पुतलों का निर्माण किया था. इस बार बजट में कटौती करते हुए केवल रावण सहित केवल तीन पुतले ही बनाए जा रहे हैं.

    वहीं, राज्य के कई जिलों में महंगाई के चलते रावण के पुतले की ऊंचाई को कम कर दिया गया है, जिससे की बजट को कम किया जा सके.

    वहीं, रावण बनाने वाले कारीगरों को भी जीएसटी के चलते पुतले बनाने की हर एक चीज के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. कारीगरों का कहना है कि जीएसटी की वजह से कई वस्तुओं के दाम बढ़ गए हैं.

    यह पहला मौका नहीं है जब नोटबंदी या जीएसटी की वजह से कारोबार प्रभावित रहा हो. रक्षाबंधन से त्यौहारी सीजन की शुरुआत मानी जाती है, लेकिन नोटबंदी और जीएसटी की मार के बाद पिछले 10 साल में सीजन की सबसे खराब शुरुआत रही थी.

    वहीं त्याग और बलिदान के त्यौहार ईद पर भी बाजार से रौनक गायब थी. नोटबंदी की मार के बाद धीरे-धीरे उबर रहे बाजार पर जीएसटी का ग्रहण साफ दिखाई दे रहा है.

    स्पेशल रिपोर्टः भाई-बहन के त्यौहार के बाद बकरों पर जीएसटी और नोटबंदी की मार

    Tags: Neemuch news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर