अपना शहर चुनें

States

AUDIO टेप ने बढ़ाई शिवराज की मुश्किल, पुलिस थाने पर शिकायत, दिग्विजय ने मांगा इस्तीफा

गरोठ उपचुनाव के ठीक पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक नए विवादों में फंस गए है. शिवराज का एक ऑडियो टेप सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, जिसमें शिवराज भाजपा नेता राजेंद्र चौधरी को मंदसौर के गरोठ विधानसभा उपचुनाव में पार्टी के उम्मीदवार का साथ देने के एवज में चुनाव के बाद उन्हें सम्मानित करने (कोई पद देने) का भरोसा दिला रहे हैं. कांग्रेस उम्मीदवार सुभाष सोजतिया ने इसके खिलाफ पुलिस थाने पर आवेदन दिया है. वहीं पार्टी इसकी शिकायत चुनाव आयोग से भी करने जा रही है.

  • News18
  • Last Updated: June 26, 2015, 11:20 AM IST
  • Share this:
गरोठ उपचुनाव के ठीक पहले मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एक नए विवादों में फंस गए है. शिवराज का एक ऑडियो टेप सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, जिसमें शिवराज भाजपा नेता राजेंद्र चौधरी को मंदसौर के गरोठ विधानसभा उपचुनाव में पार्टी के उम्मीदवार का साथ देने के एवज में चुनाव के बाद उन्हें सम्मानित करने (कोई पद देने) का भरोसा दिला रहे हैं. कांग्रेस उम्मीदवार सुभाष सोजतिया ने इसके खिलाफ पुलिस थाने पर आवेदन दिया है. वहीं पार्टी इसकी शिकायत चुनाव आयोग से भी करने जा रही है.

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता केके मिश्रा ने बताया कि शिवराज सिंह चौहान और राजेंद्र चौधरी के बीच इस कथित ऑडियो टेप के खिलाफ पार्टी के उम्मीदवार सुभाष सोजतिया ने स्थानीय पुलिस थाने जाकर शिकायत दर्ज कराई है. मिश्रा ने बताया कि चुनाव आयोग को भी इस ऑडियो क्लिप की शिकायत की जाएगी.

पार्टी प्रदेश प्रवक्ता केके मिश्रा ने बताया कि शिवराज सिंह चौहान और राजेंद्र चौधरी के बीच इस कथित ऑडियो टेप के खिलाफ पार्टी के उम्मीदवार सुभाष सोजतिया ने स्थानीय पुलिस थाने जाकर शिकायत दर्ज कराई है. यह शिकायत धारा 171 (ग) के तहत की गई है.



क्या होती है धारा 171 (ग)
निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक यदि कोई व्यक्ति किसी मतदाता को इस प्रकार प्रभावित करता है या प्रभावित करने का प्रयत्न करता है कि किसी विशेष अभ्यर्थी के पक्ष में मतदान करे अन्यथा वह दैवी अप्रसन्नता का पात्र बन जाएगा तो वह लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 123(2) के अधीन मतदाता पर अनावश्यक प्रभाव डालने के भ्रष्ट आचरण का दोषी होगा.

यह भारतीय दंड संहिता की धारा 171(ग) के अधीन अपराध भी है और या तो ऐसी अवधि, जिसे एक वर्ष तक के लिए बढ़ाया जा सकता है, के लिए कारावास, या जुर्माना या दोनों से दंडनीय है.

चुनाव के बाद सम्मानित करने का वादा

इस कथित ऑडियो क्लिप में बातचीत के दौरान शिवराज भाजपा नेता राजेंद्र चौधरी को गरोठ विधानसभा उपचुनाव में पार्टी के उम्मीदवार का साथ देने के एवज में चुनाव के बाद उन्हें सम्मानित करने (कोई पद देने) का भरोसा दिला रहे हैं. ऑडियो में चौहान कह रहे है कि यह चुनाव उनके और पार्टी दोनों के लिए महत्वपूर्ण है. चुनाव हारने पर फजीहत सभी की होगी. इतना ही नहीं, इस कथित ऑडियो में चौहान पोरवाल समाज का वोट भाजपा को दिलाने की बात चौधरी से कह रहे हैं.

दिग्विजय सिंह ने मांगा इस्तीफा

सोशल मीडिया पर वायरल हुई इस ऑडियो क्लिप को कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने भी फेसबुक और टि्वटर पर शेयर कर दिया. साथ ही ट्वीट करते हुए उन्होंने कहा. 'शिवराज चौहान मुमं (मुख्यमंत्री) मप्र का भाजपा के नेता राजेश चौधरी को फ़ोन पर प्रलोभन का प्रमाण.'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट कर कहा, चुनाव आयोग के कोड ओफ कन्डक्ट का स्पष्ट उल्लंघन. मुमं (मुख्यमंत्री) इस्तीफ़ा दीजिये. चुनाव आयोग के पर्यवेक्षक महोदय कृपया मुमंजी (मुख्यमंत्री) पर कार्रवाई करें.

राजेश चौधरी ने साधी चुप्पी

इस ऑडियो क्लिप के बाद राजेश चौधरी ने शुरुआत में कहा था कि क्लिपिंग से छेड़छाड़ की गई है, लेकिन बाद में उन्होंने भी चुप्पी साध ली. वह बार-बार मीटिंग में होने का हवाला देकर इस मुद्दे पर बात करने से बच रहे है.

भाजपा ने बताया फर्जी

भाजपा के प्रदेश संवाद प्रमुख डॉ. हितेष वाजपेयी ने इस कांग्रेस का दुष्प्रचार बताया है. भाजपा के अन्य नेताओं ने भी इस ऑडियो क्लिप को फर्जी करार दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज