शेयर बाजार से भी बुरा किसानों का हाल, एक दिन में 8000 तक गिरे फसल के दाम

Photo- ETV

नीमच मंडी में सालाना करीब 12 से 15 हज़ार क्विंटल पोस्तादाना आता है. इससे सरकार को करोड़ों रुपए का राजस्व मिलता है.

  • Share this:
मध्य प्रदेश के मालवा अंचल के नीमच और मंदसौर में किसानों के बुरे दिन खत्म होने का नाम नहीं ले रहे है. मौसम की मार के बाद अब केंद्र सरकार के एक फैसले ने किसानों की कमर तोड़कर रख दी है. सरकार के टर्की से पोस्तादाना आयात करने पर लगी रोक हटाने के बाद मालवा इलाके के अफीम उत्पादक किसान इन दिनों मायूस हैं. यहां एक दिन में पोस्ता के दाम आठ हजार रुपए तक गिर गए.

देश की सबसे बड़ी पोस्तादाना मंडी नीमच में शुक्रवार को भारतीय पोस्तादाना के भाव औंधे मुंह गिर गए. भाव में आयी गिरावट से अफीम किसानों में भारी आक्रोश है. उनका कहना था टर्की से पोस्तादाना के आयात और भारतीय पोस्तादाना क्लीनिंग के लिए राज्य सरकार द्वारा लाइसेंस नहीं देना इस गिरावट का एक बड़ा कारण है.

नीमच मंडी में जो पोस्ता एक दिन पहले ही करीब 63 हजार रुपए क्विंटल बिक रहा था वो शुक्रवार को 55 हजार में ही बिका, जिसे लेकर किसानो में खासी निराशा है. देशी पोस्ते के भाव में आई कमी के पीछे हाल ही में टर्की के पोस्ते के आयात से प्रतिबंध हटाए जाने की बाते सामने आने को माना जा रहा है.

हालांकि,अभी सिर्फ टर्की के पोस्ते की आहट ही हुई है लेकिन उससे पहले ही देशी पोस्ते के भाव औंधे मुुंह गिर गए है. दरअसल, टर्की पोस्ता और देशी पोस्ते के भावों में काफी फर्क होता है. टर्की का पोस्ता 300 रुपए तक की बिकता है, जबकि देशी पोस्ता महंगा होता है. ऐसे में जब टर्की का पोस्ता देश में हजारो क्विंटल की तादात में आएगा तो देशी पोस्ते के दाम में और गिरावट आना तय है.

पड़ोस के राज्य राजस्थान के चित्तौड़ जिले से किसान सत्यनारायण इस उम्मीद में आए थे कि उनका पोस्तादाना करीब 65 हज़ार रूपए क्विंटल बिकेगा. लेकिन नीमच मंडी पहुंचकर उनको बेहद मायूसी हुई, क्योंकि शुक्रवार को मंडी में पोस्तादाने का मूल्य मात्र 55 हज़ार रुपए क्विंटल रह गया. सत्यनारायण ने बताया कि
केंद्र सरकार ने टर्की से पोस्तादाना के आयात को हरी झंडी दे दी, जिसके चलते भारतीय पोस्तादाना के भाव करीब 8 से 10 हज़ार रुपए क्विंटल कम हो गए.


कमोबेश यही स्थिति का सामना पोस्ता किसान नरेंद्र सिंह ने भी किया. उनका पोस्ता भी भी उम्मीद से कम कीमत पर बिका. इस बारे में पोस्ता कारोबारी समीप चौधरी कहते है केंद्र सरकार ने टर्की के पोस्ता दाने का आयात खोल दिया. टर्की का पोस्ता 30 से 35 हज़ार रूपए क्विंटल बिकता है. वही एमपी सरकार व्यापारियों को पोस्तादाना छनाई का लाइसेंस नहीं दे रही. ऐसे में कारोबारी पोस्ता कैसे क्लीन करे, क्योंकि दो साल पहले राज्य सरकार ने पोस्ता भूसा नियम विलोपित कर दिया. इस नियम के तहत व्यापारी पोस्तादाना छानकर साफ़ करते थे. अब सरकार नयी पॉलिसी नहीं बना रही ऐसे में भारतीय पोस्ता क्वालिटी के मान से भी टर्की और चाइना के पोस्ता के सामने नहीं ठहर पाता.

गौरतलब है की नीमच मंडी में सालाना करीब 12 से 15 हज़ार क्विंटल पोस्तादाना आता है. इससे सरकार को करोड़ों रुपए का राजस्व मिलता है. ख़ास बात यह है कि मध्य प्रदेश के मालवा और राजस्थान के मेवाड़ में करीब 60 हज़ार अफीम पट्टेधारी किसान है, जो पोस्तादाना का उत्पादन करते है.

इस मामले में नीमच मंडी इन्स्पेक्टर डीके जैन का कहना है कि भारतीय पोस्तादाना के भाव में गिरावट है. उनका तर्क है कि यह सरकार की व्यवस्था है. वह इसमें कुछ भी नहीं कर सकते है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.