Home /News /madhya-pradesh /

यहां के किसानों ने फूलों की खेती को बनाया मुनाफे का धंधा

यहां के किसानों ने फूलों की खेती को बनाया मुनाफे का धंधा

मध्य प्रदेश में नीमच की जावद तहसील के कुछ किसानो ने अपनी परम्परागत खेती से इतर फूलो की खेती को मुनाफे का धंधा बनाया है. यहां किसान गेंदे के फूलो की खेती करते हुए अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं.

मध्य प्रदेश में नीमच की जावद तहसील के कुछ किसानो ने अपनी परम्परागत खेती से इतर फूलो की खेती को मुनाफे का धंधा बनाया है. यहां किसान गेंदे के फूलो की खेती करते हुए अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं.

मध्य प्रदेश में नीमच की जावद तहसील के कुछ किसानो ने अपनी परम्परागत खेती से इतर फूलो की खेती को मुनाफे का धंधा बनाया है. यहां किसान गेंदे के फूलो की खेती करते हुए अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं.

    मध्य प्रदेश में नीमच की जावद तहसील के कुछ किसानो ने अपनी परम्परागत खेती से इतर फूलो की खेती को मुनाफे का धंधा बनाया है. यहां किसान गेंदे के फूलों की खेती करते हुए अच्छा खासा मुनाफा कमा रहे हैं.

    दरअसल, जावद के फूलो की राजधानी दिल्ली सहित गुजरात राजस्थान में काफी डिमांड है और त्यौहार ही नहीं बल्कि आए दिनों में भी यहां से फूल बड़ी तादात में वहा भेजे जा रहे हैं.
    नीमच जिले की जावद तहसील के लोद और केलूखेड़ा गांव के किसान अपनी परंपरागत खेती से अलग हटकर फूलों की खेती को अपनी कमाई का जरिया बना चुके हैं.

    यहां के किसानों ने कुछ सालों से अन्य फसलों के भावों के सही नहीं मिलने के चलते फूलो की खेती की जिससे उन्हें अच्छा खासा मुनाफा मिला और फिर देखते ही देखते इन दोनों ही गांवों के करीब एक दर्जन किसान करीब 100 बीघा में फूलों की खेती करने लगे.

    यहां के फूल राजधानी दिल्ली सहित अन्य राज्यों में अपनी खुशबू बिखेरते हुए किसानों को काफी मुनाफा दिलवा रहे हैं. किसानों का कहना है कि एक सीजन में ही वे अपने एक बीघा की खेती में 70 से 80 हजार ररुपए तक कमा लेते हैं, जबकि अन्य फसलों में उन्हें इतना पैसा नहीं मिल पाता है. ऐसे में अब इन गांवों में किसान लगातार कई वर्षो से फूलो की खेती करते हुए मुनाफा कमा रहे हैं.

    Tags: Neemuch news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर