VIDEO: भोपाल के शमशान और कब्रिस्तान में शवों की आई बाढ़, अंतिम संस्कार के लिए नहीं बची जगह

भोपाल में श्मशानों और कब्रिस्तानों में शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए जगह तक नहीं बची है.

भोपाल में श्मशानों और कब्रिस्तानों में शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए जगह तक नहीं बची है.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की राजधानी भोपाल (Bhopal) में इन दिनों 40 से 50 शव श्मशान और कब्रिस्तान में अंतिम संस्कार के लिए पहुंच रहे हैं. श्मशाम नें शवों को जलाने और कब्रिस्तान में शवों को दफनाने के लिए जगह नहीं मिल पा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 8:25 PM IST
  • Share this:
भोपाल. प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में कोरोना (Corona) काल में मौतों (Death) का आंकड़ा एकाएक बढ़ गया है. शमशान घाट ओर कब्रिस्तान में आम दिनों के मुकाबले बहुत ज्यादा लाशें पहुंच रही हैं, जिसके चलते कब्रिस्तान में जगह की कमी तो शमशान घाटों में लकड़ियों की कमी होने लगी है. यहां तक कि शमशान घाटों में अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ रहा है. भोपाल के कब्रिस्तान और शमशान घाटों का यह हाल है.

कोरोना की दूसरी लहर इतनी खौफनाक होगी इसका अंदाजा शायद किसी को नहीं था. एक तरफ जहां अस्पतालों में मरीजों के लिए जगह नहीं है. वहीं शमशान घाट और कब्रिस्तानों में भी जगह की कमी होने लगी है.

Youtube Video


वीडियो में दिख रहे भोपाल के कब्रिस्तान में जहां कोरोना से होने वाली मौत के बाद लाशों को दफनाया जाता है. यहां पर अब लाशों को दफनाने के लिए जगह नहीं बची है. मिट्टी खोदकर नई कब्र बनाने के लिए कलेक्टर को कब्रिस्तान वालों ने खत भी लिखा है. वहीं हर रोज दर्जन भर लाशें यहां पहुंच रही हैं.
Opinion : मध्य प्रदेश में मुर्दे उगल रहे हैं कोरोना से हो रही मौत के आंकड़ों का सच

वहीं भोपाल के शमशान घाटों की हालत और भी ज्यादा खराब है. यहां रोज 40 से ज्यादा लाशों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है. हालात ये हैं कि अंतिम संस्कार के लिए लाइन लग रही है, तो लकड़ियां भी अंतिम संस्कार के लिए कम पड़ने लगी हैं.

कोरोना काल के पहले दिन में मुश्किल से 4 या 5 लाशें आती थीं. लेकिन, अब रोज 40 के आसपास लाशें अंतिम संस्कार के लिए शमशान घाटों पर पहुंच रही हैं, भोपाल में 2 शमशान घाट और एक कब्रिस्तान में लाशों को दफनाया जा रहा है. ऐसे में सवाल ये है कि इन बिगड़ते हालातों को कैसे संभाला जाएगा, क्योंकि जिस तरह से मौतों के आंकड़े बढ़ रहे हैं, उससे तो ये साफ है अब हालात बेकाबू हो चले हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज