पन्ना के बराछ गांव से 400 लोग कर चुके हैं पलायन

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: January 1, 2018, 3:00 PM IST
पन्ना के बराछ गांव से 400 लोग कर चुके हैं पलायन
प्रतीकात्मक तस्वीर.

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मनरेगा के माध्यम से मजदूरों को काम देने की बात करते हो, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है. बुन्देलखंड के पन्ना में किसानों को मुआवजा और मजदूरों को काम न मिलने के कारण किसान और मजदूर पलायन करने को मजबूर हैं बुन्देलखंड में मजदूरों और किसानों का पलायन थमने का नाम नहीं ले रहा है. पन्ना के ग्राम बराछ सहित जिले के सैकड़ों ग्रामों के किसान-मजदूर सूखे के चलते और मजदूरी न मिलने के कारण अपने छोटे-छोटे बच्चों सहित पलायन करने को मजबूर हैं. पन्ना के बराछ गांव से ही अकेले करीब 400 लोग का पलायन कर चुके हैं.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मनरेगा के माध्यम से मजदूरों को काम देने की बात करते हो, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही है. बुन्देलखंड के पन्ना में किसानों को मुआवजा और मजदूरों को काम न  मिलने के कारण किसान और मजदूर पलायन करने को मजबूर हैं बुन्देलखंड में मजदूरों और किसानों का पलायन थमने का नाम नहीं ले रहा है. पन्ना के ग्राम बराछ सहित जिले के सैकड़ों ग्रामों के किसान-मजदूर सूखे के चलते और मजदूरी न मिलने के कारण अपने छोटे-छोटे बच्चों सहित पलायन करने को मजबूर हैं. पन्ना के बराछ गांव से ही अकेले करीब 400 लोग का पलायन कर चुके हैं.

बराछ गांव में इन दिनों मानो सन्नाटा पसरा है ग्रामीणों की माने, तो गांव से सैकड़ों लोग अपने दुधमुहे बच्चों को लेकर इस कडकडाती ठण्ड में पेट पलाने और दो वक्त की रोटी कमाने के लिए बड़े-बड़े महानगरों में पलायन करने को मजबूर हैं.

पन्ना जिले का किसान और खेतिहर मजदूर पूरी तरह से खेती-किसानी पर निर्भर हैं, लेकिन जिले में लगातार सूखा पड़ने की वजह से किसान परेशान हैं और मजदूरों को भी काम नहीं मिल पा रहा है. जिसकी वजह से लोगों के पास पलायन करने के अलावा कोई अन्य रास्ता ही नहीं है.

पलायन का ये असर मजदूरों के बच्चों को भी प्रभावित करती है. पैसों के अभाव में पलायन की वजह से नन्हें मुन्हें बच्चों की पढ़ाई भी चौपट हो रही है. कई छात्राएं ऐसी भी हैं जो पढ-लिख कर आगे बढ़ना चाहती हैं, लेकिन उनके माता-पिता को काम न मिलने और गरीबी के कारण उन्हें भी परिवार के साथ महानगरों में पलायन करना पड़ता है. जिससे उनकी पढ़ाई कहीं पीछे छूट जाती है.

बुंदेलखंड के इलाके में मध्य प्रदेश के 6 जिले छतरपुर, टीकमगढ़, पन्ना, दमोह, सागर, दतिया और उत्तर प्रदेश के 7 जिले झांसी, ललितपुर, जालौन, हमीरपुर, बांदा, महोबा, कर्वी (चित्रकूट) आते हैं. कुल मिलाकर 13 जिलों से बुंदेलखंड बनता है. यहां के लगभग हर हिस्से से पलायन जारी है. यहां से मजदूर दिल्ली, गुरुग्राम, गाजियाबाद, पंजाब, हरियाणा और जम्मू एवं कश्मीर तक काम की तलाश में जाते हैं. पन्ना के बराछ गांव से करीब 400 लोगों का पलायन हुआ है. खजुराहो से दिल्ली जाने वाली ट्रेन और दिल्ली बस से रोजाना लोग पलायन कर रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पन्‍ना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 1, 2018, 3:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...