मजदूर से करोड़पति बना मोतीलाल, फिर भी नहीं जी पा रहा है सुकून की ज़िन्दगी

जहां वह मजदूरी करने के लिए जाता है, लोग उस पर ताने कसते हैं कि तुम तो करोड़पति हो गए हो. तुम क्या हमारे यहां मजदूरी करोगे.

Sanjay Tiwari | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 21, 2019, 2:40 PM IST
Sanjay Tiwari
Sanjay Tiwari | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 21, 2019, 2:40 PM IST
पन्ना जिले के मोतीलाल प्रजापति को कुछ दिन पहले 42.58 कैरेट का बेशकीमती हीरा मिला था. उस समय मोतीलाल को लगा था कि अब उसकी गरीबी खत्म हो जाएगी और वह आराम की जिंदगी बिताएगा. लेकिन आलम तो यह है कि 2 करोड़ 55 लाख का मालिक होने के बावजदू मोतीलाल के पास परिवार को दो वक्त की रोटी खिलाने तक का इंतजाम नहीं है. पहले मजदूरी करके परिवार का पेट पाल लेता था, लेकिन अब तो उसे काम भी नहीं  मिलता. मोतीलाल जहां काम मांगने के लिए जाता है लोग उसे करोड़पति कह कर लौटा देते हैं. ऐसे में मोतीलाल हताश होकर प्रशासन से हीरे की निलामी की रकम दिलाने की गुहार लगा रहा है.

मोतीलाल को पन्ना के उथली खदान से मिला हीरा सरकारी नीलामी में  2 करोड़ 55 लाख में बिका था, जिसे झांसी के राहुल अग्रवाल एंड कंपनी ने खरीदा था. लेकिन लगभग एक महीने बाद भी मोतीलाल को निलामी की रकम नहीं मिली है. ऐसे में मोतीलाल ऐसे मझधार में फस गया है जहां करोड़पति होते हुए भी उसके पास खाने के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम नहीं है.

गरीबी में जीवन यापन करने वाला मोतीलाल अब मजदूरी भी नहीं कर पा रहा है. इसकी वजह है कि जहां वह मजदूरी करने के लिए जाता है, लोग उस पर ताने कसते हैं कि तुम तो करोड़पति हो गए हो. तुम क्या हमारे यहां मजदूरी करोगे. मोतीलाल घर से भी नहीं निकल पा रहा है. एक महीने से मजदूरी नहीं कर पाने और निलामी के पैसे नहीं मिलने के चलते उसका और परिवार का जीवन संकट में पड़ गया है.

पन्ना के मेनका टॉकीज के छोटे से घर में रहने वाला मोतीलाल भले ही रातों-रात करोड़पति बन गया हो लेकिन आज भी मोतीलाल की जिंदगी गरीबी में ही गुजर रही है. मोतीलाल के एक पार्टनर  रघुवीर प्रजापति का भी हाल कुछ इसी तरह का है. एक महीने बाद भी इन लोगों को शासन से हीरे का पैसा नहीं मिल पाया है. ये दोनों शासन से गुजारिश कर रहे हैं कि उन्हें इस हीरे का पैसा मिल जाए तो वह अपने परिवार की दुर्दशा को पटरी पर ला सकें. बच्चों की फीस जमा करने से लेकर उनको डॉक्टर बनाने का सपना और  दो बच्चियों के हाथ भी पीले करने का काम भी उन पैसों से ही पूरा करना है.

ये भी पढ़ें- छतरपुर जिले का वह सरकारी स्कूल जहां दाखिले के लिए लगती है लाइन

ये भी पढ़ें- सीएम कमलनाथ का पलटवार, बीजेपी ने 15 साल के कार्यकाल में एमपी को बनाया अपराधों का प्रदेश

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पन्‍ना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 21, 2019, 2:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...