Home /News /madhya-pradesh /

पन्ना टाइगर रिजर्व में लगेंगे 400 सीसीएमबी, बाघों के साथ शिकारियों पर भी रहेगी नजर

पन्ना टाइगर रिजर्व में लगेंगे 400 सीसीएमबी, बाघों के साथ शिकारियों पर भी रहेगी नजर

मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व को हाईटेक बनाने के लिए रिजर्व प्रबंधन दिन-प्रतिदिन नए प्रयोग कर रहा है. इसके तहत अब रिजर्व में नई तरह के कैमरे लगाए जाने हैं.

मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व को हाईटेक बनाने के लिए रिजर्व प्रबंधन दिन-प्रतिदिन नए प्रयोग कर रहा है. इसके तहत अब रिजर्व में नई तरह के कैमरे लगाए जाने हैं.

मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व को हाईटेक बनाने के लिए रिजर्व प्रबंधन दिन-प्रतिदिन नए प्रयोग कर रहा है. इसके तहत अब रिजर्व में नई तरह के कैमरे लगाए जाने हैं.

    मध्य प्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व को हाईटेक बनाने के लिए रिजर्व प्रबंधन दिन-प्रतिदिन नए प्रयोग कर रहा है. 2009 में बाघ विहिन हो चुके इस टाइगर रिजर्व में पिछले साल जून से ड्रोन कैमरे से नजर रखने की सुविधा चालू की गई थी. अब रिजर्व में नई तरह के कैमरे लगाए जाने हैं.

    पन्ना टाइगर रिजर्व में कंटीनियस टेपिंग मॉनिटरिंग सिस्टम सीसीएमबी लगाने का प्रस्ताव रखा गया है. इन कैमरों से उन बाघों की लोकेशन का पता लगाई जा सकेगी, जिनके गले में रेडियोकॉलर नहीं हैं. कोर जोन एरिया के पेड़ों पर यह ​कैमरे लगाए जाएंगे. कैमरे बिना रेडियो कॉलर वाले बाघों की तस्वीरें कैद कर लेंगे और शावकों की सही गिनती के साथ ही सुरक्षा भी हो सकेगी.

    रिजर्व के कोर जोन एरिया मे 400 से अधिक कैमरे लगाने का प्रस्ताव है. अभी तक पन्ना टाइगर रिजर्व के कोर जोन एरिया में 160 कैमरे लगाए गए हैं, जिसके सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं. इन कैमरों का उपयोग बाघ के संरक्षण के साथ-साथ शिकारियों पर नकेल कसने में भी किया जा रहा है, क्योंकि जो एक बार इन कैमरों के सामने से गुजर जाएगा उसकी तस्वीर कैमरे पर तुरंत आ जाएगी. ये कैमरे दिन-रात काम करते हैं. रात में भी इनमें आई तस्वीर दिन की रोशनी के बराबर होती है. जल्द ही पूरे टाइगर रिजर्व में यह कैमरे लगाए जाएंगे.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर