होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /रतलाम: एंबुलेंस नहीं आई तो गर्भवती को बाइक पर ले गए घरवाले, रास्ते में ही डिलीवरी

रतलाम: एंबुलेंस नहीं आई तो गर्भवती को बाइक पर ले गए घरवाले, रास्ते में ही डिलीवरी

इतलाम के इस आदिवासी गांव में इस तरह सड़क पर कराना पड़ा गर्भवती का प्रसव.

इतलाम के इस आदिवासी गांव में इस तरह सड़क पर कराना पड़ा गर्भवती का प्रसव.

No Road, No Network: बीएमओ डॉ जितेंद्र ने बताया कि गांव में सड़क नहीं होने से वहां एम्बुलेंस ले जाने में समस्या आती है. ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बुलाने के बाद भी एंबुलेंस के न पहुंचने का मामला सैलाना विधानसभा क्षेत्र के बरड़ा पंचायत के बयोटेक गांव का है.
घंटों इंतजार के बाद परिजनों ने मोटरसाइकिल से गर्भवती महिला को स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचाने का जोखिम उठाया.
लेकिन शिवगढ़ पहुंचने से पहले ही प्रसव पीड़ा तेज हो गई और महिला ने सड़क पर ही एक बच्ची को जन्म दे दिया.
इस मामले की जानकारी के बाद सैलाना ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर जितेंद्र रैकवार एंबुलेंस के साथ मौके पर पहुंचे.

रिपोर्ट: जयदीप गुर्जर

रतलाम. मध्य प्रदेश के गांवों में स्वास्थ्य सेवा का हाल समझना हो तो रतलाम की इस खबर को पढ़ें. रतलाम के आदिवासी अंचल के एक गांव में एक गर्भवती महिला को प्रसव पीड़ा हुई. परिजनों ने 108 नंबर पर कॉल कर एंबुलेंस की जरूरत बताई. घंटों इंतजार करने के बाद भी जब एंबुलेंस गांव में नहीं पहुंची तो परिजनों ने मोटरसाइकिल पर गर्भवती महिला को स्वास्थ्य केंद्र तक ले जाना तय किया. पर अस्पताल ले जाने के क्रम में ही महिला की पीड़ा तेज हो गई और रास्ते में उसने बच्ची को जन्म दिया.

यह मामला सैलाना विधानसभा क्षेत्र के बरड़ा पंचायत के बयोटेक गांव का है. एंबुलेंस के न पहुंचे और रास्ते में ही बच्ची के जन्म की सूचना मिलने के बाद सैलाना ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर जितेंद्र रैकवार एंबुलेंस के साथ मौके पर पहुंच गए. उन्होंने महिला और नवजात बच्ची को सैलाना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया. डॉक्टर के अनुसार, फिलहाल जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ हैं. ब्लॉक मेडिकल ऑफिसर ने इस स्थिति के लिए सड़क न होने की बात कही और मोबाइल नेटवर्क की समस्या की बात भी बात कही. बता दें कि यह गांव जयस के नेता केशुराम निनामा का पैतृक गांव है. निनामा इस बार जिला पंचायत में उपाध्यक्ष निर्वाचित हुए हैं. उन्होंने भी इस मामले को लेकर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है.

बता दें कि बरड़ा पंचायत के बयोटेक गांव में रहनेवाले देवीलाल की पत्नी को रविवार सुबह 9 बजे के करीप प्रसव पीड़ा हुई. परिजनों ने 108 नंबर पर फोन कर एम्बुलेंस को सूचना दी. लेकिन घंटों इंतजार के बाद भी जब एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंची, तब परिजनों ने गर्भवती संगीता को मोटरसाइकिल पर बैठाकर शिवगढ़ के लिए रवाना हो गए. शिवगढ़ ले जाते समय रास्ते में ही प्रसव पीड़ा तेज हो गई और रास्ते में ही संगीता ने बच्ची को जन्म दिया. वहां भी करीब घंटे भर महिला और नवजात शिशु रास्ते में पड़े रहे, मगर एम्बुलेंस फिर भी उन तक नहीं पहुंच पाई. जिसके बाद परिजन महिला को लेकर अपने घर लौट गए.

गांव पहुंचे बीएमओ, एंबुलेंस साथ लाए

सूचना मिलने के तुरंत बाद सैलाना बीएमओ डॉ. जितेंद्र रैकवार एंबुलेंस के साथ गांव में पहुंचे और मां-बच्ची को सैलाना सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया. बीएमओ डॉ जितेंद्र ने बताया की गांव में सड़क नहीं होने से वहां एम्बुलेंस ले जाने में समस्या आती है. गांव में मोबाइल नेटवर्क की समस्या शुरू से है. जिससे परिजनों से संपर्क करने में काफी समस्या आती है. सीएमओ डॉ. प्रभाकर ननावरे ने मामले में बताया की महिला व बच्चे के स्वास्थ्य की जानकारी लेकर जरूरी निर्देश दिए गए हैं. यह 108 एंबुलेंस का मामला है, जिसे गंभीरता से दिखवाया जा रहा है. अगर कोई दोषी है तो उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

healthcare in Madhya Pradesh Ambulance not reach Ratlam even after waiting for hours pregnant gave birth on the road-nodaa

Tags: Mp news, Primary Health Center, Ratlam news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें