होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /रतलाम में गलती होने पर भैरव महाराज भक्तों को देते हैं सज़ा, इसलिए नाम है पछाड़मल

रतलाम में गलती होने पर भैरव महाराज भक्तों को देते हैं सज़ा, इसलिए नाम है पछाड़मल

मंदिर में विराजमान भैरवनाथ की प्रतिमाएं

मंदिर में विराजमान भैरवनाथ की प्रतिमाएं

भैरव महाराज को पछाड़मल का नाम दिया गया है. इस नाम के पीछे मान्यता है कि जो कोई भी गलती करता है, तो उसे भैरवनाथ पछाड़ कर स ...अधिक पढ़ें

    जयदीप गुर्जर

    रतलाम. भारत धार्मिक मान्यता प्रधान देश है. यहां तीज-त्योहार की अपनी विशेषता है. देश के हर राज्य व शहर में चमत्कारिक देवस्थल मौजूद हैं जहां चमत्कारिक घटनाओं की साक्षात अनुभूति होती है. हम बात कर रहे है मध्य प्रदेश के रतलाम स्थित ऐसे ही एक प्राचीन स्थल की. यहां के धभाई जी का वास स्थित भैरव मंदिर अपनी अनोखी गाथाओं के लिए प्रसिद्ध है.

    यहां भैरव को पछाड़मल का नाम दिया गया है. इस नाम के पीछे मान्यता है कि जो कोई भी गलती करता है, तो उसे भैरवनाथ पछाड़ कर सजा देते हैं. भैरवनाथ को मां दुर्गा के बाद पूजने का विशेष महत्व है. कहा जाता है कि जिस प्रकार नवरात्रि में मां दुर्गा की आराधना महत्वपूर्ण है, उसी प्रकार भगवान भैरवनाथ की आराधना भी महत्व रखती है.

    काला व गौरा भैरव की दो प्रतिमाएं विराजमान

    मंदिर की सेवा कर रहे रविंद्रसिंह सोनगरा बताते हैं कि यहां भैरवनाथ की काला व गौरा दो प्रतिमाएं विराजमान हैं. इनमें से एक को मदिरा तो दूसरे को दूध का भोग लगता है. इन प्रतिमाओं की स्थापना की सही जानकारी किसी को नहीं मालूम है. बताया जाता है कि रतलाम रियासतकाल से यह मंदिर है. यहां नौ दिन अखंड ज्योत व जवारों की स्थापना होती है. दशहरे पर विधि विधान से जवारों का विसर्जन किया जाता है. देश भर से यहां श्रद्धालु दर्शन करने के लिए आते हैं.

    तब चलती साइकिल से गिरा था युवक

    कुछ लोगों का कहना है कि मंदिर में गलती होने पर भैरव महाराज दंड देते है और इसकी अमुभूति लोगों को होती भी है. मंदिर का इतिहास रियासतकालीन है. यहां रतलाम महाराजा के समय से परंपरा का निर्वहन किया जाता आ रहा है. इस क्षेत्र के लोगों की मान्यता है कि यहां मन्नत लेने से सबकुछ मिलता है. भूत-प्रेत की बाधा भी दूर होती है. सबसे खास बात है कि यहां मन्नत के समय कुछ खास चढ़ावा नहीं चढ़ाना होता है. मदिरा, दूध या नारियल से ही भैरव बाबा खुश हो जाते हैं.

    Tags: Durga Puja festival, Mp news, Navratri festival, Ratlam news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें