एंबुलेंस नहीं मिला तो बाइक पर ले गए 30 किलोमीटर, मासूम ने तोड़ा दम
Ratlam News in Hindi

एंबुलेंस नहीं मिला तो बाइक पर ले गए 30 किलोमीटर, मासूम ने तोड़ा दम
अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया.

बच्ची के पिता उसे बाइक पर बिठाकर 30 किलोमीटर दूर रतलाम पहुंचे. इस दौरान बच्ची की मां ने उसे ग्लूकोज के ड्रिप के साथ पकड़ा हुआ था

  • Share this:
मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में एंबुलेंस नहीं होने की वजह से चार साल की एक मासूम की मौत हो गई. तबीयत खराब होने पर बच्ची के माता-पिता उसे गांव के सरकारी हेल्थकेयर में लेकर गए, जहां डॉक्टर ने उसे रतलाम रेफ़र कर दिया. जब बच्ची के पिता ने एंबुलेंस मांगा तो उन्हें बताया गया कि एंबुलेंस नहीं है.

मामला रतलाम ज़िले के सैलाना इलाके के एक गांव का है, जहां एक मासूम को निमोनिया की शिकायत हुई. बच्ची के माता-पिता उसे लेकर पास के एक सरकारी हेल्थकेयर में गए. वहां उसकी हालत लगातार ख़राब होती जा रही थी. इसके बाद हेल्थकेयर के डॉक्टर ने बच्ची को रतलाम रेफ़र कर दिया. जब बीमार बच्ची के पिता ने एंबुलेंस मांगा तो उन्हें बताया गया कि एंबुलेंस नहीं है.

बच्ची के पिता घनश्याम उसे बाइक पर बिठाकर 30 किलोमीटर दूर रतलाम पहुंचे. इस दौरान बच्ची की मां ने उसे ग्लूकोज का ड्रिप के साथ पकड़ा हुआ था. बताया जा रहा है कि बच्ची ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया था. अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया.



मामला प्रकाश में आने के बाद रतलाम के कार्यकारी कलेक्टर सोमेश मिश्रा ने जांच के आदेश दिए हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि सैलाना के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में केवल एक एम्बुलेंस था और वह भी तीन महीने पहले टूट चुका था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading