अपना शहर चुनें

States

रतलाम शेल्टर होम रेप केस: अधिकारियों पर गाज गिरने का सिलसिला जारी

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

मामले में जिला महिला बाल विकास अधिकारी सुषमा भदौरिया को उज्जैन कमिश्नर ने सस्पेंड कर दिया है. इससे पहले मामले में महिला सशक्तिकरण अधिकारी रविंद्र मिश्रा पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं

  • Share this:
मध्य प्रदेश के रतलाम में हुए शेल्टर होम रेप केस मामले में अधिकारियों पर गाज गिरने का सिलसिला जारी है. इस मामले में जिला महिला बाल विकास अधिकारी सुषमा भदौरिया को उज्जैन कमिश्नर ने सस्पेंड कर दिया है. इससे पहले मामले में महिला सशक्तिकरण अधिकारी रविंद्र मिश्रा पहले ही निलंबित किए जा चुके हैं.

रतलाम कलेक्टर रुचिका चौहान ने बालिका आवास की मॉनिटरिंग के मामले में कार्यक्रम अधिकारी सुषमा भदौरिया की बड़ी लापरवाही देखी, जिसके बाद उन्होंने सुषमा भदौरिया के निलंबन की अनुशंसा की और कमिश्नर अजीत कुमार ने महिला बाल विकास अधिकारी को निलंबित कर दिया. सुषमा भदौरिया को उज्जैन अटैच किया गया है.

कलेक्टर ने कहा है पूरे मामले को फास्ट-ट्रैक कोर्ट में चलवाने की कोशिश जारी है और इस मामले में जो भी जिम्मेदार दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी.



वहीं इस मामले में जनता अब भी गुस्से में है. लोग इस मामले में अब दोषियों को फांसी देने की मांग कर रहे है. जिसको लेकर शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनों ने पैदल मार्च निकालकर विरोध दर्ज करवाया और दोषियों को फांसी देने की मांग की. इस मामले मे लोगों ने जिम्मेदार अधिकारियो पर भी एफआईआर दर्ज करने की मांग की है.
क्या है पूरा मामला
जिले के जावरा में स्थित शेल्टर होम कुंदन कुटीर आश्रय गृह में बच्चियों का यौन शोषण का मामला सामने आया है. बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष और उनके पति पर शोषण का आरोप लगा है. रचना भारती शराब पीकर बच्चियों से मारपीट करती थी और फिर अपने पति से उनका यौन शोषण करवाती थी. पिछले हफ्ते शेल्टर होम से भागी पांच बच्चियों ने ये खुलासा किया है.

यह भी पढ़ें- रतलाम शेल्टर होम रेप केस: एक और सनसनीखेज खुलासा, गृह मंत्री बोले- जल्द होगी कार्रवाई
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज