लाइव टीवी

रतलाम की 82 साल की डॉ. लीला जोशी को मिला पद्मश्री सम्मान
Ratlam News in Hindi

Sudhir Jain | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 3, 2020, 11:46 AM IST
रतलाम की 82 साल की डॉ. लीला जोशी को मिला पद्मश्री सम्मान
मालवा की मदर टेरेसा कही जाने वाली डॉ लीला जोशी को मिला पद्मश्री सम्मान

मध्य प्रदेश के रतलाम (Ratlam) की रहने वाली डॉक्टर लीला जोशी (Doctor Leela Joshi) को पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा जाएगा. रतलाम की रहने 82 वर्षीय डॉ जोशी बीते 22 सालों से महिलाओ में खून की कमी को लेकर आदिवासी अंचलो में कैंप लगाकर मुफ्त इलाज कर रही हैं.

  • Share this:
रतलाम. 71वें गणतंत्र दिवस (Republic Day) की पूर्व संध्या पर पद्म पुरस्कार (Padma Awards) पाने वाली हस्तियों के नाम का एलान हो चुका है. इनमें 7 लोगों को पद्म विभूषण, 16 को पद्म भूषण और 118 हस्तियों को पद्मश्री पुरस्कार देने की घोषणा की गई है. जिसमें मध्यप्रदेश की ४ हस्तियों को इस बार  पद्मश्री अवार्ड (Padmashree Award) से नवाजा जाएगा. इसी कड़ी में मध्य प्रदेश के रतलाम (Ratlam) की रहने वाली डॉक्टर लीला जोशी (Doctor Leela Joshi) को पद्मश्री अवॉर्ड से नवाजा जाएगा. रतलाम की रहने 82 वर्षीय डॉ जोशी बीते 22 सालों से महिलाओ में खून की कमी को लेकर आदिवासी अंचलो में कैंप लगाकर मुफ्त इलाज कर रही हैं. लीला जोशी इस उम्र में भी आदिवासी महिलाओं को जागरूक करने में जुटी हुई हैं.

डॉ. लीला जोशी को लोग मालवा की मदर टेरेसा भी कहते हैं

बताया जाता है कि साल 1997 में डॉ. लीला जोशी की मुलाकात मदर टेरेसा से हुई. मदर टेरेसा से प्रभावित हो कर डॉ लीला जोशी ने रतलाम के आदिवासी अंचलों में एनीमिया के लिए जागरुकता अभियान शुरू किया. बता दें कि डॉ. लीला जोशी को लोग मालवा की मदर टेरेसा भी कहते हैं. वे मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की एक मात्र ऐसी महिला चिकित्सक हैं जो आदिवासी बहुल क्षेत्रों में जाकर महिलाओं का मुफ्त इलाज कर उनकी सेवा करती हैं.साल 2015 में देश के महिला और बाल विकास विभाग ने  डॉ. लीला जोशी का चयन देश की 100 प्रभावी महिलाओं में किया था. डॉ लीला जोशी मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से एक मात्र महिला हैं, जिनका देश की प्रभावी महिलाओं में चयन किया गया है.

आदिवासी अंचलों में एनीमिया के लिए जागरुकता अभियान शुरू किया
मदर टेरेसा से प्रभावित हो कर डॉ लीला जोशी ने आदिवासी अंचलों में एनीमिया के लिए जागरुकता अभियान शुरू किया


22 सालों से महिलाओं और किशोरियों का मुफ्त इलाज कर रही हैं डॉ. लीला जोशी 

रेलवे के चीफ मेडिकल डायरेक्टर के पद से रिटायर्ड डॉ. लीला जोशी वर्ष 1997 से रतलाम के आदिवासी अंचलों में एनीमिया के लिए अवेयरनेस कैंपेन चलाकर महिलाओं और किशोरियों का मुफ्त इलाज कर रही हैं. इस अतुलनीय योगदान के चलते उन्हें अब पद्मश्री सम्मान से नवाजा जाएगा. अपनी मां को प्रेरणा बताने वाली महिला डॉक्टर लीला जोशी अपने चयन से काफी खुशी हैं.

यह भी पढ़ें- जब राजमाता की पुण्यतिथि पर मिले शिवराज और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बेटे, फिर हुआ कुछ ऐसा..यह भी पढ़ें- मध्‍य प्रदेश के एजुकेशन सिस्‍टम में होगा अहम बदलाव, पलटेगा शिवराज सरकार का यह बड़ा फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रतलाम से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 27, 2020, 8:11 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर