अपना शहर चुनें

States

नगर निगम ने रोका घोटाले उजागर करने वाली फर्म का पेमेंट, रिन्यू नहीं किया टेंडर

फर्म के संचालक हेमंत अकोदिया
फर्म के संचालक हेमंत अकोदिया

मध्यप्रदेश की रतलाम नगर निगम ने अपने यहां हुए तमाम घोटालों को उजागर करने वाली फर्म का टेंडर रिन्यू करने से इनकार कर दिया है.

  • Share this:
मध्यप्रदेश की रतलाम नगर निगम ने अपने यहां हुए तमाम घोटालों को उजागर करने वाली फर्म का टेंडर रिन्यू करने से इनकार कर दिया है. इतना ही नहीं निगम प्रशासन ने फर्म का पेमेंट भी रोक दिया है. सूत्रों की माने तो लगातार घोटालो के उजागर होने से नगर निगम की इमेज खराब हुई है. ऐसे में इस फर्म का टेंडर रिन्यू किया गया तो फिर बड़े भ्रष्टाचार उजागर होंगे. इसमें कई सफेदपोश बेनकाब हो जाएंगे. यही वजह है की पॉलिटिकल दबाव और निगम में जारी भ्रष्टाचार को दबाने के लिए अब इस फर्म को निगम से बहार का रास्ता दिखा दिया गया है.

पूरा मामला रतलाम नगर निगम में सामाजिक सुरक्षा पेंशन घोटाला, राशन घोटाला और तमाम भ्रष्टाचार उजागर करने वाली फर्म अकोदिया एसोसिएट्स से जुड़ा है. समग्र सामाजिक सुरक्षा मिशन का टेंडर मिलने के बाद इस फर्म ने बीते एक साल में पुरुषों को विधवा पेंशन देने का मामला हो या जीवित व्यक्तियों को राष्ट्रीय परिवार सहायता देने का, सभी में बड़े करप्शन का खुलासा किया है. इतना ही नहीं राशन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कर राशन के महाघोटाले का भी खुलासा इसी फर्म ने किया था. जिसमें 12 हजार फर्जी राशनकार्ड उपभोक्ता सामने आए थे. जिसके बाद घोटालेबाजों की एक पूरी लॉबी इस फर्म को हटाने के लिए सक्रिय हो गई थी. खास बात यह की तत्कालीन कलेक्टर बी.चंद्रशेखर खुद टीएल की बैठक में इस फर्म का टेंडर रिन्यू करवाने की बात ऑन रिकार्ड कह चुके हैं. बावजूद इसके नगर निगम कोई भी आदेश मानने को तैयार नहीं है.

इस फर्म के संचालक हेमंत अकोदिया का कहना है की उन्होंने बीते एक साल में 80 करोड़ का भ्रष्टाचार उजागर किया है, जिसकी वजह से उन्हें हटाया गया. जबकि मजदूर डायरियों में गड़बड़ियों का खुलासा अभी बाकी है. वहीं निगम महापौर डॉ. सुनीता यार्दे इस मामले में गोलमोल जवाब देती नजर आ रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज