निगम कर्मियों ने श्वान को पीट पीटकर मार डाला, पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मामला दर्ज

रतलाम- निगम के कर्मचारियों ने श्वान को मौत के घाट उतारा
रतलाम- निगम के कर्मचारियों ने श्वान को मौत के घाट उतारा

शख्स ने इसकी वीडियो (VIDEO) बना ली और फिर पीपुल्स फॉर एनि्मल संस्था इंदौर (Indore) को भेज दिया. इस संस्था के जिम्मेदार प्रियांशु जैन ने गुरुवार को व्हाट्सएप्प पर ही मामले की शिकायत रतलाम के औद्योगिक थाना पुलिस को की. पुलिस ने सफाई दरोगा नरेंद्र छपरी और उसके साथियों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम (Animal Cruelty Act) के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

  • Share this:
रतलाम. मध्य प्रदेश में एक बेजुबान पर रतलाम नगर निगम (Ratlam Municipal Corporation) के जिम्मेदारों ने ऐसा कहर बरपाया कि उस पशु की जान चली गई. एक बेजुबान पशु ने ऐसी क्या गलती कर दी जिससे निगम के सफाई दरोगा को इतना गुस्सा आ गया और उसने पीट पीटकर उसकी जान ले ली. पूरी घटना रतलाम के शक्ति नगर की है जहां एक श्वान (Dog) को पत्थरों, लाठियों और डंडो से पीट पीटकर मौत की नींद सुला दिया गया. बताया जा रहा है कि यह श्वान लोगों को काट (Dog was Biting) रहा था, जिसके बाद निगम के कर्मचारियों का कहर इस श्वान पर टूट पड़ा और पत्थरों, लाठियों से बेरहमी से पीट पीटकर उसकी जान ले ली गई.

सार्वजनिक जगह पर ऐसी मौत !

यह बेजुबान सार्वजनिक जगह पर इतनी बेरहम मौत का कतई हकदार नहीं था, जो निगम के एक सफाई दरोगा नरेंद्र छपरी और उसके साथियों ने दी. जानकारी के अनुसार जब इस श्वान को बेरहमी से पीटा जा रहा था तब पास ही खड़े एक शख्स ने इसकी वीडियो बना ली और फिर पीपुल्स फॉर एनीमल संस्था इंदौर को भेज दिया. इस संस्था के जिम्मेदार प्रियांशु जैन ने गुरुवार को व्हाट्सएप्प पर ही मामले की शिकायत रतलाम के औद्योगिक थाना पुलिस को की. पुलिस ने सफाई दरोगा नरेंद्र छपरी और उसके साथियों के खिलाफ पशु क्रूरता अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है.



रतलाम औद्योगिक थाना पुलिस ने सफाई दरोगा नरेंद्र छपरी और उसके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज किया.

दरअसल रतलाम में श्वानों की बढ़ती तादाद से हर मोहल्ले के निवासी काफी परेशान हैं. रतलाम नगर निगम भी इस समस्या के आगे हाथ खड़े कर चुका है. फिर भी निगम कर्मियों की इस क्रूरता को देखकर कहा जा सकता है कि इस समस्या से निपटने का यह तरीका किसी भी लिहाज से सही नहीं है.

ये भी पढ़ें - व्यापम घोटाला :आरक्षक भर्ती परीक्षा में 31 दोषी करार, सज़ा का एलान 25 नवंबर को

ये भी पढ़ें - MP के स्वास्थ्य मंत्री का कबूलनामा, प्रदेश में है 70 फीसदी डॉक्‍टर्स की कमी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज