चूहों ने मरीज के पैर कुतर डाले, ICU में दो महीने से चल रहा है इलाज

रतलाम के जिला अस्पताल में भर्ती एक मरीज के पैर की एड़ी को चूहों ने कुतर दिए. पीड़ित मरीज पिछले दो महीने से ICU में भर्ती है और बेहोश है.

  • Share this:
अगर आप रतलाम के जिला अस्पताल में इलाज कराने जा रहे हैं तो आपको चूहों को पकड़ने के लिए एक पिंजरा भी साथ ले जाना होगा. यह सलाह आपको इसलिए दी जा रही है, क्योंकि, कहीं डॉक्टर के साथ-साथ चूहे आपका ऑपरेशन न कर दें. दरअसल रतलाम के जिला अस्पताल में भर्ती एक मरीज के पैर की एड़ी को चूहों ने कुतर दिए. जानकारी के अनुसार पीड़ित मरीज का नाम सूरज भाटी है. वह यहां पिछले दो महीने से ICU में भर्ती है और बेहोश है. आईसीयू जैसे संवेदनशील वार्ड में चूहों के आतंक को देखकर लगता है कि यहां के जिम्मेदार अधिकारी और कर्मचारी बेहोशी में हैं. सूरज के पिता के अनुसार वार्ड में चूहों की रोकथाम के लिए कोई इंतजाम मौजूद नहीं हैं. चूहे दिन में भी वार्ड में दौड़ते हैं.

सिविल सर्जन का रटा रटाया जवाब

मरीज के साथ घटी इस घटना के बाद अस्पताल के जिम्मेदार रटा -रटाया जवाब दे रहे हैं. सिविल सर्जन आनंद चंदेलकर ने कहा कि दो दिन पहले ही अस्पताल में पेस्ट कंट्रोल कराया गया है. लेकिन बारिश की वजह से चूहे पूरी तरह से खत्म नहीं हुए हैं. गड्ढों में बारिश का पानी भर जाने के कारण चूहे अस्पताल के वार्ड की तरफ भागने लगे हैं.



सिविल सर्जन ने कहा कि अस्पताल में पेस्ट कंट्रोल कराने के लिए टेंडर निकाल दिया गया है.

उन्होंने कहा कि साफ-सफाई अभियान सघनता से चलाकर सारे चूहों को खत्म कर दिए जाने की कोशिश की जाएगी. उन्होंने कहा कि जिस मरीज के साथ यह घटना घटी है उसकी देखभाल की जा रही है. मरीज को एयर बेड मुहैया कराया गया है. उन्होंने कहा कि अस्पताल में पेस्ट कंट्रोल कराने के लिए टेंडर निकाल दिया गया है.

बता दें कि इससे पहले भी जावरा के पोस्टमार्टम रूम में एक आदमी के शव को चूहों ने कुतर दिए थे. तब उस घटना के बाद स्वास्थ्य महकमे की जमकर किरकिरी हुई थी.

ये भी पढ़ें - तीसरे सोमवार को बाबा महाकाल का दिखा नाग चंद्रेश्वर स्वरूप

ये भी पढ़ें - कमलनाथ को देश का प्रधानमंत्री होना चाहिए : जीतू पटवारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज