होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /रतलाम में 'पुष्पा' लुक को लेकर सोशल मीडिया में ट्रोल हुआ रावण, आयोजकों की हुई किरकिरी

रतलाम में 'पुष्पा' लुक को लेकर सोशल मीडिया में ट्रोल हुआ रावण, आयोजकों की हुई किरकिरी

रावण के पुतले को लेकर आयोजकों की किरकिरी हो रही है.

रावण के पुतले को लेकर आयोजकों की किरकिरी हो रही है.

मध्य प्रदेश के अम्बेडकर ग्राउंड में रावण का पुतला ठीक से टिक नहीं पाया. जलने से पहले ही पुतला ही झूक गया. इसे देख लोगों ...अधिक पढ़ें

जयदीप गुर्जर/रतलाम. मध्य प्रदेश के रतलाम में कोरोना के दो साल बाद लोगों में रावण दहन को लेकर जबरदस्त उत्साह देखने को मिला. नगर निगम ने शहर के आम्बेडकर ग्राउंड व बड़बड़ ग्राउंड पर दहन का आयोजन किया, मगर इस बार का रावण दहन किरकिरी बन गया. रावण दहन को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोलिंग हुई. लोगों ने कहा कि हर बार की तरह इस बार भी रावण भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया. लोगों ने सोशल मीडिया पर लिखा कि कमीशनखोरी से रावण भी नहीं बचा, इसे भी पोलियो हो गया.

51 व 31 फिट के रावण को देखने लोग उत्साहित थे, मगर जब रावण को देखा तो निराशा हाथ लगी. अम्बेडकर ग्राउंड में रावण ठीक से टिक नहीं पाया, जिससे वह झुक गया. इसे देख लोगों ने जमकर पुष्पा – पुष्पा की हुटिंग की. बड़बड़ ग्राउंड में रावण का लुक नेपाली जैसा हो गया. जिससे वहां भी लोगों ने हुटिंग कर दी.

नेतानगरी में 1 घण्टे नहीं जला रावण का पुतला
आयोजन में रामजी की सवारी आ गई, लेकिन समय पर नेता नहीं पहुंचे उनका इंतजार करना पड़ा. जब नेता आ गए तो रावण का पुतला जलाने में सभी को पसीना छूट गया. रावण दहन का मुख्य आयोजन नगर निगम द्वारा नेहरू स्टेडियम में किया गया. रंग बिरंगी आतिशबाजी के नाम पर केवल खानापूर्ति देखने को मिली. रामजी की सवारी भी तय समय से लेट पहुंची. मगर उसके स्वागत सत्कार के लिए रामजी ओर हनुमान जी को विधायक चेतन्य काश्यप व महापौर प्रहलाद पटेल का इंतजार करना पड़ा. पहले उन्होंने रॉकेट में माचिस की तीली लगाई, लेकिन रॉकेट रावण के पुतले तक नहीं पहुंच पाया.

दूसरी बार फिर कोशिश की, लेकिन रॉकेट उसी जगह जल कर खत्म हो गया. फिर तीर कमान चलाया, लेकिन पुतले ने आग नहीं पकड़ी, वहां मौजूद रावण बनाने वाले कर्मचारियों ने रावण के पैर में आग लगाई, लेकिन आग नहीं पकड़ पाया. इधर लोगों का गुस्सा भी बढ़ता जा रहा था. जोर जोर से हूटिंग होने लगी. बड़ी मशक्कत के बाद पुतले के पीछे आग लगाई. पुतले के अंदर फटाकों की संख्या भी बहुत कम थी. पूरे पुतले को जलने में 20 से 25 मिनट का समय लगा. जो लोग पुतला दहन देखने आए थे उन्हें काफी निराश होकर जाना पड़ा. वहीं बरबड़ हनुमान मंदिर मेला परिसर में भी खड़ा किया गया रावण का पुतला जल तो गया लेकिन नीचे नहीं गिरा, उसे गिराना पड़ा.

Tags: Madhya pradesh news, Ratlam news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें