रतलाम में लग रही है नेता बनने की क्लास, यहां सिखायी जा रही है नेतागिरी...

रतलाम में लग रही इस क्लास का मक़सद नेताओं (Leaders) को नेतागिरी सिखाना नहीं है. बल्कि उन्हें योग्य और जानकार बनाना है. ताकि वो अपने शहर (City) का विकास कर सकें.
रतलाम में लग रही इस क्लास का मक़सद नेताओं (Leaders) को नेतागिरी सिखाना नहीं है. बल्कि उन्हें योग्य और जानकार बनाना है. ताकि वो अपने शहर (City) का विकास कर सकें.

रतलाम में लग रही इस क्लास का मक़सद नेताओं (Leaders) को नेतागिरी सिखाना नहीं है. बल्कि उन्हें योग्य और जानकार बनाना है. ताकि वो अपने शहर (City) का विकास कर सकें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2020, 12:19 PM IST
  • Share this:
रतलाम. मध्य प्रदेश में उप चुनाव (By Election) सिर पर हैं, ऐसे माहौल में चुनाव प्रचार और टिकट की तिकड़म के बीच रतलाम (Ratlam) में ऐसी क्लास शुरू हो गयी है जिसमें नेतागिरी सिखायी जा रही है. वो भी बिलकुल मुफ्त. गुरुजी कह रहे हैं कि इस क्लास का मकसद सिर्फ ये है कि नेता जानकार बन सकें.जिन लोगों को चुनाव लड़ना है उन्हें ये क्लास, नेतागिरी में परफेक्ट बनाने जा रही है.

जिन लोगों को चुनाव लड़ना है या नेता बनना है, उनके लिए ही ये क्लास शुरू की गयी है. इसमें जनता को नेता और नेतागिरी सिखायी जा रही है. जिन नेताओं को और अधिक परिपक्व बनना है वो भी इसे अटेंड कर सकते हैं. क्लास बिलकुल फ्री है.रतलाम की ये वही क्लास है जिसकी चर्चा इन दिनों जोरों पर है. इस क्लास का उद्देश्य जनप्रतिनिधियों को जानकार बनाना और भविष्य के परफेक्ट जमीनी लीडर तैयार करना है. जिनकी सिफारिशों पर जनता के लिए योजनाएं बन सकें और जो पूरी तरह से हर मामले में विशेषज्ञ हो.

जनता को चाहिए योग्य नेता
क्लास चलाने वाले गुरुजी संदीप व्यास का कहना है कि इस कोर्स की जरुरत रतलाम में इसलिए पड़ी क्योंकि यहां जनप्रतिनिधियों की उदासीनता का खमियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है. नेता इतने जानकार नहीं हैं कि सरकारी योजनाओं पर अमल में हस्तक्षेप कर सकें. नेताओं में जानकारी की कमी का फायदा यहां जिम्मेदार आसानी से उठा रहे हैं. और जनता परेशान हो रही है. यही वजह है कि नेताओ को जानकार बनाने के लिए शहर के युवा समाजसेवियों ने यह जिम्मा उठाया है. एक्सपर्ट्स की मदद से 10, 30 और 60 घंटों का यह कोर्स तैयार किया है. इसमें नेताओं के साथ युवाओं, महिलाओं और जनता को भी एक्सपर्ट बनाया जाएगा. यह कोर्स पूरी तरह से फ्री है. आने वाले समय में शहर के वॉर्ड स्तर पर भी इसकी क्लास चलाई जाएंगी. ताकि शहरवासियों को जानकार बनाकर, सरकारी मशीनरी की मनमानी रोकी जा सके.
नेताजी बने चेले


नेतागिरी के इस हाईटेक कोर्स में सभी नियम कायदों, सिटीजन चार्टर सहित वे सभी जानकारियां मौजूद हैं, जिसकी समझ एक जनप्रतिनिधि को होनी चाहिए. यही वजह है कि शहर के कई नेता भी क्लास में स्टूडेंट के रूप में नजर आ रहे हैं. वो भी मान रहे हैं कि ये कोर्स काम का है.

विकास के लिए
नेताओं में जानकारी की कमी का ही परिणाम है कि कई योजनाएं जनता तक पहुंच ही नहीं पाती हैं या फिर सरकारी विभागों की आपसी खींचतान में उलझ जाती हैं.जनप्रतिनिधियों की इसी कमी को दूर करने वाली ये क्लास है,इसका फायदा लेते रतलाम के कई लीडर दिखाई दे रहे हैं. उम्मीद है कि इस क्लास से सीखकर वो अपने शहर और प्रदेश के विकास में भागीदार बनेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज