ऑनलाइन परीक्षा के नाम पर आदिवासी छात्रों से खिलवाड़..!
Ratlam News in Hindi

ऑनलाइन परीक्षा के नाम पर आदिवासी छात्रों से खिलवाड़..!
5 वीं कक्षा के सैकड़ों आदिवासी छात्र मॉडल स्कूल प्रवेश परीक्षा देने से वंचित रह गए

5 वीं कक्षा के सैकड़ों आदिवासी छात्र मॉडल स्कूल प्रवेश परीक्षा देने से वंचित रह गए

  • Share this:
आदिवासी जनजाति के छात्रों की शिक्षा के लिए भले ही करोड़ो का बजट सरकार देती है लेकिन जमीनी स्तर पर इन योजनाओं के नाम पर आदिवासी छात्रों से खिलवाड़ ही होता दिख रहा है.

मामला रतलाम का है जहां के 5 वीं कक्षा के सैकड़ों आदिवासी छात्र मॉडल स्कूल प्रवेश परीक्षा देने से वंचित रह गए. इन छात्रों की प्रवेश परीक्षा 27 और 28 फरवरी को होनी थी लेकिन संसोधन कर 26 फरवरी को ही यह परीक्षा आयोजित कर दी गई, जिसके चलते आदिवासी अंचल के सैकड़ो छात्रों को इसकी सूचना नहीं मिल सकी और वे परीखान से वंचित रह गए.

हैरान करने वाली बात यह भी है की आदिवासी विभाग प्रदेश स्तर पर ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा आयोजित कर रहा है, जबकि 5वी कक्षा के आदिवासी बच्चों का कम्प्यूटर ज्ञान शून्य है.



अब सवाल यह उठ रहा है कि जिन बच्चों को कक्षा 1 से 5 तक कंप्यूटर और अंग्रेजी पाठ्यक्रम में पढ़ाया ही नहीं गया वो कैसे ऑनलाइन एक्साम दे सकते हैं. बच्चो के लेकर आये अभिभावकों ने इसकी शिकायत जिला प्रशासन से की है.



वहीं इस मामले में प्रभारी कलेक्टर का कहना है की जो बच्चे संसोधन की वजह से परीक्षा नहीं दे सके है उन्हें 28 तारीख को होने वाली परीक्षा में शामिल किया जाएगा. ऑनलाइन एक्साम के प्रश्न पर इसे विभाग का निर्णय बताते हुए इसे बच्चों के लिए हितकारी बताया है, जबकि ज्ञापन देने आये बच्चो और अभिभावकों ने कंप्यूटर शब्द से परिचित होने से इनकार किया हैं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading