अपना शहर चुनें

States

रतलाम Video: एसडीएम से बोले विधायक- आप महिला हैं पुरुष अधिकारी होता तो कॉलर पकड़ लेता

ज्ञापन को लेकर विधायक एसडीेएम पर भड़क गए.
ज्ञापन को लेकर विधायक एसडीेएम पर भड़क गए.

वीडियो में विधायक महिला एसडीएम पर भड़कते नजर आ रहे हैं. दरअसल कृषि बिल के विरोध मे आज विधायक ने ट्रैक्टर रैली निकाली थी, लेकिन ज्ञापन सौंपने के दौरान विधायक भड़क गए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 12:39 PM IST
  • Share this:
रतलाम. मध्यप्रदेश के रतलाम के सैलाना से कांग्रेस विधायक हर्षविजय गेहलोत का एक विडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. वीडियो में  विधायक महिला एसडीएम पर भड़कते नजर आ रहे हैं. दरअसल कृषि बिल के विरोध मे आज विधायक ने ट्रैक्टर रैली निकाली थी, लेकिन ज्ञापन सौंपने के दौरान विधायक भड़क गए.

एसडीएम खुद ज्ञापन लेने नहीं आई उन्होंने तहसीलदार को ज्ञापन लेने भेज दिया यही बात विधायक को नागवार गुजरी और उन्होंने बोला एसडीएम को बुलाओ. फिर जब एसडीएम आईं तो विधायक ने उन पर भड़ास निकाल दी. विधायक गेहलोत ने कहा- आप हमें कुछ समझते ही नहीं, मै विधायक हूं.





विधायक ने इस तरह की बद्तमीजी
विधायक ने एसडीएम से कहा कि आप महिला हैं पुरुष अधिकारी होता तो कॉलर पकड़कर देता ज्ञापन. अब विधायक का यह भड़कने वाला विडियो सोशल मीडिया में तेजी से फैल रहा है. हालांकि इस मामले में विधायक कि सफाई सामने नहीं आई है.

पिछले हफ्ते ही दूसरे एमएलए ने धमकाया था पटवारी को

गौरतलब है कि बीते हफ्ते रतलाम के आलोट विधायक मनोज चांवला का पटवारी को धमकाने वाला विडियो वायरल हुआ था अब सैलाना विधायक का विडियो सोशल मीडिया में फैल रहा है. दोनो ही विधायक कांग्रेस के हैं. ऐसे मे बीजेपी दोनो के खिलाफ कार्रवाई कि मांग कर सकती है.

एक रोचक खबर ये भी - ननि के इस पद पर नहीं बैठना चाहता कोई

मध्य प्रदेश के रतलाम में नगर सरकार चुनने की (Ratlam Municipal Corporation Election) सुगबुगाहट शुरू हो गईं है. रतलाम नगर निगम का चुनाव वर्ष 2019 में होना था मगर ऐसा हो न सका, अब इसके वर्ष 2021 में होने की संभावना है. निगम चुनाव को लेकर रतलाम (Ratlam) के नेताओं की बांछे खिलने लगी हैं. मगर रतलाम नगर निगम में एक पद ऐसा भी है जिस पर काबिज होने के लिए शायद ही कोई नेता तैयार हो. दरअसल रतलाम नगर निगम की इस कुर्सी को लोग अशुभ मानते हैं. सत्ता के गलियारों में इस बात की चर्चा होती है कि जो भी नेता रतलाम नगर निगम की इस कुर्सी पर बैठता है उसकी राजनीति पर फुल स्टॉप लग जाता है. ऐसा एक बार नहीं बल्कि चार बार हुआ है, यही वजह है की रतलाम के नेता इस पद को शुभ नहीं मानते. 1994 में रतलाम नगर निगम के बनने के बाद से अब तक पांच परिषदों का गठन हुआ है. यहां पांच महापौर और पांच अध्यक्ष चुने गए. महापौर तो विधायक भी बन गए लेकिन निगम अध्यक्ष बनने के बाद चारों नेता कुछ खास कमाल नहीं कर पाए और सक्रिय राजनीति में हाशिए पर चले गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज