होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Wedding Trend : शेरवानी-लहंगे हुए महंगे तो घबराएं नहीं, जरा सी कीमत में ऐसे बुक करें शादी के कपड़े

Wedding Trend : शेरवानी-लहंगे हुए महंगे तो घबराएं नहीं, जरा सी कीमत में ऐसे बुक करें शादी के कपड़े

Wedding Wear : अक्सर ऐसा होता है कि शादी में आप जो ड्रेस या परिधान तैयार करवाते हैं, उसे फिर कभी पहनने का मौका नहीं आता ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – जयदीप गुर्जर

रतलाम. शादियों के सीज़न में जिधर देखिए उधर शादी की शॉपिंग पर बात हो रही है. शादी की शॉपिंग में सबसे खास वैवाहिक परिधान यानी कपड़ों की खरीदारी होती है. दूल्हा दुल्हन के साथ साथ उनके करीबी रिश्तेदार और दोस्त सभी अलग दिखने की चाह रखते हैं. ऐसे में महंगे महंगे सूट-शेरवानी व लहंगे मार्केट में उपलब्ध हैं. मिडिल क्लास फेमिली कई दिनों तक चलने वाले फंक्शन में महंगे कपड़ों को चूंकि अफोर्ड नहीं कर पाते इसलिए किराये से शादियों के कपड़े लेना ट्रेंड बन चुका है. किराये से वैवाहिक कपड़े लेना लोगों को किफायती भी लग रहा है.

रेंटल शॉप लग्न मंडप के उज्ज्वल बताते हैं कि रतलाम में लोग आसपास के शहरों के अलावा गुजरात व राजस्थान से भी कपड़े बुक करवा रहे हैं. शहर में पिछले 3 सालों में 10 से ज्यादा ऐसी दुकानें खुल चुकी हैं, जहां शादियों के कपड़े किराये से मिलते हैं. उनके पास लेटेस्ट चलन वाली वैरायटियां मौजूद हैं, जिससे रेंट पर ले जाने वाले को पुराने जैसा अनुभव नहीं होता. दूल्हे व दुल्हन को कपड़ों के अलावा उनसे मैचिंग ज्वेलरी भी दी जाती है.

कितना पड़ता है किराया?

2000 से लेकर 10,000 तक का किराया कपड़ों पर लिया जा रहा है. रतलाम में किराये से वैवाहिक कपड़े देने की शुरुआत लगभग 12 साल पहले हुई, जिसने अभी 4-5 सालों से अच्छा ग्रोथ कर लिया है. अब बड़े बड़े शोरूम भी अपने यहां ग्राहकों को कपड़े खरीदने के साथ रेंट की सुविधा मुहैया करवाने लगे हैं. गौरतलब है कि रतलाम में रेंट से शादियों के कपड़ों की बुकिंग 3 से 5 महीने पहले ही शुरू हो जाती है. कई बार तो यहां दुकानदारों के पास स्टॉक भी नहीं होता. रेंट से लहंगा शेरवानी के इस व्यवसाय में अब कॉम्पिटिशन भी बढ़ रहा है.

अपनी सहेली की शादी के लिए लहंगा बुक करवाने आई पूजा बताती है कि रेंट से लहंगा लेने पर रुपयों की बचत होती है. लहंगा भारी होता है जिसे लम्बे समय तक सम्भाल कर रखना भी मुश्किल है. शादियों व पार्टियों में खरीदे हुए लहंगे को बार बार रिपीट करके पहनना पड़ता है. ऐसे में रेंट से कपड़े लेने पर हर बार कुछ नया पहनने व अलग दिखने का मौका मिलता है. इसे संभालने की जरूरत भी नहीं पड़ती है.

Tags: Ratlam news, Wedding story

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें