होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /विश्व दिव्यांग दिवस: ऐसी बच्ची जो बोल और सुन नहीं सकती, फिर भी एक पैर से करती है दिल को लुभा देने वाला डांस

विश्व दिव्यांग दिवस: ऐसी बच्ची जो बोल और सुन नहीं सकती, फिर भी एक पैर से करती है दिल को लुभा देने वाला डांस

12 साल की दीक्षिका कक्षा 5वी में पढ़ती है. जो बोल व सुन नहीं सकती है और केवल एक ही पैर से चलती है. लेकिन गाने और ढोल की ...अधिक पढ़ें

    जयदीप गुर्जर/रतलाम. भगवान किसी से कुछ छीन लेता है, तो उसे कुछ खास भी जरूर देता है. हम बात कर रहे है रतलाम की एक ऐसी बालिका की जो अपने हुनर से अपनी कमजोरी को मात दे रही है. हम बात कर रहे है जन चेतना बधिर एवं मंदबुद्धि माध्यमिक विद्यालय में पढ़ने वाली दीक्षिका गोस्वामी की. 12 साल की दीक्षिका कक्षा 5वी में पढ़ती है. जो बोल व सुन नहीं सकती है और केवल एक ही पैर से चलती है. लेकिन गाने और ढोल की थाप पर जबरदस्त डांस करती है. जन्म से ही उसके शरीर में कई कमियां हैं, लेकिन वह खुद को किसी से कमजोर नहीं समझती. दीक्षिका के डांस को देखकर हर कोई आश्चर्य में पड़ जाता है. दीक्षिका जब डांस करती है तब कोई भी यह अंदाजा नहीं लगा सकता कि वह शरीर से निःशक्त है. अपने हुनर से दीक्षिका अब सशक्त है.

    दीक्षिका की मां ममता रतलाम के डोसिगांव में रहती है, जिनकी शादी मंदसौर के विवेकगिरी गोस्वामी से हुई है. दीक्षिका का जन्म मंदसौर में हुआ, जन्म के समय उसका एक पैर विकसित नहीं हुआ था. 4 महीने बाद आवाज लगाने पर कोई हलचल ना होने पर जब डॉक्टर को बताया तो मालूम हुआ कि वह सुन और बोल भी नही सकती. मंदसौर में दीक्षिका की पढ़ाई के लिए दिव्यांग स्कूल की व्यवस्था नहीं होने से उसके पिता ने उसे रतलाम अपने नाना के यहां छोड़ दिया. जिससे दीक्षिका को बेहतर शिक्षा मिल सके. दीक्षिका के मामा दशरथ गिरी बताते है कि वह 4 वर्ष की थी जब से हमारे पास है. दीक्षिका जब डांस करती है तो उसे हर कोई देख कर हैरान रह जाता है. दीक्षिका को आगे अच्छा बड़ा मंच मिलने की उम्मीद उसके परिवार के लोग करते है.

    इशारों से सीखती है डांस व एक्सप्रेशन
    दीक्षिका की शिक्षिका उषा तिवारी के मुताबिक जब छोटी उम्र में दीक्षिका उनके पास आई, तब उसमें हिचक थी. धीरे – धीरे वह सब के साथ घुल मिल गई. जब दीक्षिका ने टीवी देखना शुरू किया तो उसने टीवी में इशारों से डांस स्टेप सीखना शुरू किया. जब मैने उसे डांस करते देखा तो उससे इशारों में पूछा कि क्या उसे डांस पसंद है, तो उसने हामी भरी. हमने स्कूल में एक कार्यक्रम में उसे पार्टिसिपेट करवाया, तब हम घबराये भी थे कि कहीं वह गिर ना जाये. लेकिन दीक्षिका ने अपने डांस से सभी को हैरत में डाल दिया. उसके लिए यह गॉड गिफ्ट है कि वह केवल इशारों में सिख कर हूबहू एक्सप्रेशन व स्टेप्स कर लेती है. जबकि उसे गाना सुनाई भी नहीं देता है. दीक्षिका बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है. उसका सपना है कि वह सभी का इलाज करे.

    Tags: Madhya pradesh news, Ratlam news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें