Black Fungus Infection: रीवा में आया अजीबोगरीब मामला, कोरोना नहीं था, फिर भी फंगल का शिकार

रीवा में ब्लैक फंगस का अजीबोगरीब मामला सामने आया है. (सांकेतिक तस्वीर)

MP Corona Update : रीवा जिले में ब्लैक फंगस इंफेक्शन का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक को न तो कोविड 19 के लक्षण नहीं थे और उसने स्टेरॉइड का इस्तेमाल भी नहीं किया था. बावजूद इसके वह ब्लैक फंगस इंफेक्शन का शिकार हो गया.

  • Share this:
    रीवा. मध्य प्रदेश के रीवा में ब्लैक फंगस इंफेक्शन (Black Fungus Infection) का एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक को न तो कोविड 19 के लक्षण थे और न ही उसने स्टेरॉइड लिया था. इसके बावजूद उसे ब्लैक फंगस हो गया. जिले में 2 दिन के अंदर ऐसे 3 केस सामने आये हैं, जिनमें कोविड की केस हिस्ट्री नहीं मिली है, अब मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर इस मामले में अध्ययन कर रहे हैं कि आखिर युवक ब्लैक फंगस की चपेट में कैसे आ गया.

    ब्लैक फंगस इंफेक्शन के लिये चयनित रीवा के श्याम शाह मेडिकल कॉलेज की सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में चौंकाने वाले ब्लैक फंगस के केस सामने आ रहे हैं. पिछले दिनों यहां 3 मरीजों की मौत हो चुकी है और 17 मरीजों का इलाज चल रहा है. इसी दौरान ब्लैक फंगस इंफेक्शन वार्ड में एक ऐसा मरीज सामने आया है. जिसमें कोविड पॉजीटिव के लक्षण नही थे और ना ही उसे स्ट्राइड इन्जेक्शन भी लगे थे. वाबजूद इसके उसमे फंगल इंफेक्शन के लक्षण मिले है. डॉक्टर इसकी एंजियोग्राफी कर पता लगाने की कोशिश में है कि आखिर इसमें किन कारणों में इंफेक्शन हुआ है.

    ब्लैक फंगल घातक बीमारी साबित हो रही है. महंगा इलाज होने के बाद भी मौत का रेशियो 50-50 है. मेडिकल कॉलेज के नेत्र और नाक-कान-गला (ENT) विभाग के साथ अन्य चिकित्सकों की टीम एकजुट होकर काम कर रही है. मेडिकल कॉलेज ने मिशन ब्लैक फंगस शुरू किया है. डॉक्टर मरीजों की स्केनिंग करने के साथ ही इलाज सुनिश्चित कर रहे हैं.

    हॉस्पिटल में रीवा, सतना, सीधी और सिंगरौली जिले के मरीज भर्ती हैं. अब तक रीवा से एक और सतना के 2 मरीजों की ब्लैक फंगस के इंफेक्शन से मौत हुई है, जबकि जिले में अब तक 22 मरीज इस इंफेक्शन का शिकार हुए हैं, जिनमें से 17 मरीजों का इलाज सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में किया जा रहा है, वहीं पांच गंभीर रोगियों को रीवा के संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया गया है.