• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • MP: भैंसि के दूध केर कर्ज उतारइ का है, साहब हमका छुट्टी दई दो! पुलिस कॉन्स्टेबल का वायरल हुआ पत्र

MP: भैंसि के दूध केर कर्ज उतारइ का है, साहब हमका छुट्टी दई दो! पुलिस कॉन्स्टेबल का वायरल हुआ पत्र

रीवा-भैंस की देखभाल करने के लिए पुलिस कॉन्सटेबल मांगी  छुट्टी

रीवा-भैंस की देखभाल करने के लिए पुलिस कॉन्सटेबल मांगी छुट्टी

मध्य प्रदेश के रीवा (Rewa) जिले में तैनात एक पुलिस कॉन्स्टेबल (Constable) ने अपनी भैंस की सेवा (Buffalo) के लिए छुट्टी का आवेदन दिया, जो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहा है.

  • Share this:
    अर्पित पांडेय

    रीवा. भैंसि के दूध केर कर्ज उतारइ का है, साहब हमका छुट्टी दई दो! यह उस चिट्ठी का मजमून है, जिसे मध्य प्रदेश के रीवा पुलिस (Rewa Police) के एक कॉन्स्टेबल ने अपने अफसरों को लिखा है. कॉन्स्टेबल ने अपनी भैंस के 'दूध का कर्ज' उतारने के लिए छुट्टी मांगने की जो 'मिसाल' पेश की है, वह अनोखी है. जी हां, कॉन्स्टेबल ने यह छुट्टी सैर-सपाटे के लिए नहीं और न ही कोरोना वायरस संक्रमण (COVID-19) के इस दौर में किसी इंसान की तीमारदारी के लिए ली है. बल्कि उसने अपनी उस भैंस (Buffalo) के लिए छुट्टी मांगी है, जो पिछले कुछ दिनों से बीमार है. कॉन्स्टेबल (Constable) उस भैंस की सेवा करना चाहता है. आपको बता दें कि पत्र का यह मजमून रीवा में  बोली जाने वाली स्थानीय बघेली भाषा में है, हालांकि कॉन्स्टेबल ने छुट्टी का आवेदन हिंदी में ही दिया है.

    इसी भैंस का दूध पीकर मिली नौकरी

    रीवा ज़िले में एसएएफ 9वीं बटालियन में पदस्थ आरक्षक कुलदीप तोमर के नाम से एक पत्र इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है. इसमें आरक्षक ने बीमार भैंस की सेवा करने के लिए विभाग के अफसरों के पास छुट्टी का आवेदन दिया है. कॉन्स्टेबल ने पत्र में यह भी लिखा है कि उन्होंने हमेशा इसी भैंस का दूध पिया है. इसी का दूध पीकर वह पुलिस में भी भर्ती हुआ है. इसलिए अब जबकि वह भैंस बीमार है, तो वह उसके दूध का कर्ज़ अदा करना चाहता है.

    मां की बीमारी के लिए भी मांगी छुट्टी

    कॉन्स्टेबल का पत्र मिलने के बाद और सोशल मीडिया में वायरल होते ही पुलिस के वरीय अधिकारियों ने कॉन्स्टेबल कुलदीप को छुट्टी तो दी नहीं, बल्कि उल्टा उसे फटकार लगा दी. हालांकि अब कुलदीप ऐसा कोई लेटर लिखने से ही इंकार कर रहा है. दरअसल, एसएएफ में तैनात आरक्षक कुलदीप तोमर की मां लंबे समय से बीमार हैं. उनकी देखभाल के लिए आरक्षक ने 10 दिन की छुट्टी मांगी थी. कुलदीप के छुट्टी से लौटते ही यह पत्र सोशल मीडिया पर काफी तेजी के साथ वायरल होने लगा.



    क्या लिखा आवेदन में

    कॉन्स्टेबल कुलदीप तोमर के नाम से वायरल हो रहे पत्र में लिखा गया है कि मां की तबियत खराब है, इसलिए उन्हें छुट्टी चाहिए. घर में एक भैंस है, जिसने अभी हाल ही में बच्चा दिया है. भैंस की सेवा के लिए घर में कोई नहीं है. आवेदन में कुलदीप ने यह भी लिखा कि बचपन से ही वो इस भैंस का दूध पीते आए हैं. इसी का दूध पीकर वो पुलिस भर्ती परीक्षा में शामिल हुए थे. इसलिए उन्हें अब भैंस के दूध का कर्ज़ अदा करना है. बहरहाल, रीवा के पुलिस कॉन्स्टेबल का यह पत्र वायरल होने के बाद अब पुलिस अधिकारियों ने कहा है कि इस पत्र की जांच कराई जाएगी. कुलदीप ने यह पत्र लिखा था या नहीं, इसकी भी जांच होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज