Home /News /madhya-pradesh /

रीवा के सांसद जनार्दन मिश्रा को शपथ लेने से रोका गया, फिर...

रीवा के सांसद जनार्दन मिश्रा को शपथ लेने से रोका गया, फिर...

जनार्दन मिश्रा रीवा लोकसभा क्षेत्र से लगातार दो बार (2014, 2019 ) चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं.

जनार्दन मिश्रा रीवा लोकसभा क्षेत्र से लगातार दो बार (2014, 2019 ) चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं.

जनार्दन मिश्रा ने जैसे स्थानीय बोली बघेली में शपथ लेनी शुरू की तो उन्हें रोक दिया गया. टोके जाने के बाद उन्होंने अपनी शपथ हिंदी में ली.

    नई लोकसभा में सभी सांसदों को शपथ दिलाई जा रही है. इस क्रम में मध्य प्रदेश की रीवा संसदीय सीट से सांसद जनार्दन मिश्रा को भी शपथ लेनी थी. जनार्दन मिश्रा ने जैसे स्थानीय बोली बघेली में शपथ लेनी शुरू की तो उन्हें रोक दिया गया. टोके जाने के बाद उन्होंने अपनी शपथ हिंदी में ली.

    क्यों रोका गया

    दरअसल संविधान की आठवीं अनुसूची में जिन 22 भाषाओं का जिक्र है, उन्हीं में से किसी एक में शपथ ली जा सकती है. इसी वजह से जनार्दन मिश्रा को रोका गया. यहीं नहीं बिहार से बीजेपी सांसद जनार्दन सिंह सिग्रेवाल ने भी भोजपुरी में शपथ लेने की तमन्ना जाहिर की थी लेकिन उन्हें भी रोक दिया गया.

    प्रज्ञा ठाकुर की शपथ पर भी हुआ विवाद

    भोपाल से निर्वाचित होकर आईं साध्वी प्रज्ञा का नाम पुकारा गया. लेकिन जैसे ही प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने शपथ लेनी शुरू की वैसे ही विपक्षी दलों ने सदन में हंगामा शुरू कर दिया. प्रज्ञा जैसे ही शपथ लेने पहुंचीं, विपक्ष ने उनके नाम को लेकर आपत्ति जताई. विपक्षी खेमे की तरफ से हंगामा हुआ. साध्वी प्रज्ञा ने संस्कृत में शपथ ली. उन्होंने अपना नाम साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर पूर्णचेतनानन्द अवधेशानंद गिरि बोला. उन्होंने अपनी शपथ पूरी करने के बाद 'भारत माता की जय' भी बोला. उनके इस नाम को लेकर कांग्रेस समेत विपक्ष के कुछ सदस्यों ने आपत्ति जताई. प्रोटेम स्पीकर वीरेंद्र कुमार ने प्रज्ञा ठाकुर से संविधान या ईश्वर के नाम पर शपथ लेने को कहा.

    ये भी पढ़ें:

    कर रहे थे ऐसी 'ड्यूटी' कि एसपी को देख पहनने लगे पतलून

    शिवराज ने जैसे ही ललकारा- सुन लो कमलनाथ सरकार...

    Tags: BJP, Madhya pradesh news, Rewa News

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर