सदी के महानायक का अनोखा दीवाना, रिक्शे में अमिताभ बच्चन को बैठाने की है ख्वाहिश !
Jabalpur News in Hindi

सदी के महानायक का अनोखा दीवाना, रिक्शे में अमिताभ बच्चन को बैठाने की है ख्वाहिश !
अमिताभ बच्चन के पोस्टरों की चलती-फिरती नुमाइश है मनोज का रिक्शा

दीवानगी का आलम ये है कि इस रिक्शेवाले के लिए भगवान और माता-पिता से भी बढ़कर हैं अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan), गंगा किनारे वाले छोरे के पोस्टरों से पटे अपने रिक्शे को नर्मदा किनारे पिछले 40 सालों से चला रहे मनोज को जबलपुर के लोग 'अमित जी के फैन' ('Amit ji's fan') के नाम से बुलाते हैं.

  • Share this:
जबलपुर. सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के जन्मदिन (Amitabh Bachchan's birthday) के खास मौके पर उन्हें दुनियाभर से बधाई संदेश मिल रहे हैं. देश और दुनिया में अमिताभ (Amitabh Bachchan) के अनगिनत फैन हैं. अमिताभ के लाखों-करोड़ों दीवानों में जबलपुर का एक दीवाना बेहद ख़ास है जिसकी तमन्ना सिर्फ इतनी है कि एक बार अपने भगवान, सदी के महानायक को रिक्शे की सवारी कराए. जी हां हम बात कर रहे हैं अमिताभ के एक खास दीवाने मनोज की, जो जबलपुर की सड़कों पर रिक्शा चलाते हैं क्योंकि यही उनका पेशा है. लेकिन अमिताभ के लिए उनकी दीवानगी उनके रिक्शे के हर कोनों में दिखती है. उनका रिक्शा अमिताभ के फिल्मी जीवन की चलती-फिरती नुमाइश है.

अमिताभ को पूजते हैं !
अमिताभ के खास दीवानों में से एक जबलपुर के मनोज़ रिक्शावाला हैं जिनकी दीवानगी अमिताभ के लिए पिछले 40 वर्षों से हर रोज़ सड़कों पर दिखाई देती है. मनोज जबलपुर की सड़कों पर दिन-रात रिक्शा चलाते हैं लेकिन ये रिक्शा कोई आम रिक्शा नहीं बल्कि अमिताभ बच्चन के पोस्टरों से भरा हुआ है. शायद ही अमिताभ की कोई सुपरहिट फिल्म का कोई पोस्टर इस रिक्शे में लगने से बचा हो. मनोज पिछले 40 साल से रिक्शा चला रहे हैं. शहर में जहां कहीं से भी उनका रिक्शा गुजरता है हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींच लेता है.

दिन की शुरुआत अमिताभ के नाम से करते हैं मनोज रिक्शावाले




मनोज़ ने न्यूज़ 18 से खास बातचीत करते हुए बताया कि जब से उन्होने होश संभाला है वो रिक्शा चला रहे हैं. जब कभी भी अमिताभ की फिल्म टॉकीज में लगती थी वो उस फिल्म का पोस्टर अपने रिक्शे में लगवा लेते थे और अमिताभ की कोई भी फिल्म उनसे छूटी ही नहीं है बल्कि कई बार देखते हैं वो उनकी फ़िल्में. मनोज कहते हैं उनकी बस यही तमन्ना है कि अमिताभ बच्चन उनके रिक्शे की सवारी का लुत्फ़ उठाएं. छोरा गंगा किनारे वाला उनका फेवरेट गाना है और वो इस गंगा किनारे वाले छोरे को नर्मदा किनारे लेकर हर पल साथ चलते हैं. मनोज़ कहते हैं कि अमिताभ उनके लिए सगे माता-पिता से भी बढ़कर हैं. वो अमिताभ की पूजा भी करते हैं और अपने काम की शुरूआत भी अमिताभ बच्चन का नाम लेने के साथ करते हैं.



'अमित जी का फैन'
वाकई ऐसी दीवानगी किसी के लिए बहुत कम ही देखने को मिलती है. अमिताभ के लिए अपनी इस दीवानगी की वजह से मनोज अक्सर सुर्खियां बटोरते हैं और पूरे जबलपुर में वो 'अमित जी के फैन' ('Amit ji's fan') के नाम से मशहूर हैं. शहर में जहां से भी अमिताभ के पोस्टरों से सजा मनोज का ये रिक्शा निकलता है लोग उन्हें पहचान लेते हैं. अमिताभ की हर फिल्म कई-कई बार देखने वाले मनोज को उनकी फिल्मों के नाम और मशहूर डायलॉग मुंहजबानी याद हैं. अमिताभ की दीवानगी का आलम उन पर इस कदर हावी है कि उनसे उनका धर्म पूछने पर वो कहते हैं कि अमिताभ ने हर धर्म के किरदार अपनी फिल्मों में निभाए हैं इसलिए वो हर धर्म हर मजहब को मानते हैं उसमें आस्था रखते हैं.

ये भी पढ़ें-  घर आए मगरमच्छ को किसान ने बकरी के खूंटे से बांधा, फिर हुआ ये...


बैसाखी पर लटका जिला अस्पताल का सिस्टम, स्टॉफ ने कहा 'कौन सी बड़ी बात है' ?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading