इस सरकारी स्कूल में गटर के पानी से जूठी थालियां धोने को मजबूर हैं बच्चे

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 27, 2019, 2:34 PM IST
इस सरकारी स्कूल में गटर के पानी से जूठी थालियां धोने को मजबूर हैं बच्चे
शर्मसार करने वाली तस्वीर गटर के पानी से झूठी थालियां धोते बच्चे

सागर जिले के मकरोनिया के प्राथमिक स्कूल में मिड-डे मील खाने के बाद बच्चे गटर के पानी से अपनी जूठी थालियां धोने को मजबूर हैं.

  • Share this:
मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सागर जिले के एक सरकारी प्राइमरी स्कूल (Goverment Primary School) में पढ़ रहे बच्चों को पीने की तो दूर अपनी थालियां साफ करने के लिए साफ पानी (Clean water) नहीं मिल रहा है. यहां पढ़ रहे बच्चों को अपनी थालियां साफ करने के लिए गटर (Sewage Water) के पानी का इस्तेमाल करना पड़ रहा है. इस घटना की वीडियो देखने के बाद आपको मध्य प्रदेश सरकार के स्कूल चलें अभियान (School Chalen Campaign) की हकीकत भी पता चल जाएगी. इस स्कूल में मासूम बच्चे मिड-डे मील(Mid day Meal) के बाद गटर के पानी में अपने बर्तन धोने को मजबूर हैं. सागर के सरकारी प्राइमरी स्कूल की ये तस्वीरें सरकार की शिक्षा नीति(Education Policy) को आईना दिखा रही है.



अधिकारियों ने दिया जल्द कार्रवाई करने का आश्वासन

सागर जिले के मकरोनिया के प्राथमिक स्कूल में मिड-डे मील के बाद, बच्चे गटर के पानी से अपनी झूठी थालियां धोते हैं. गंदे पानी से इन बच्चों को इंफेक्शन होने का खतरा बना रहता है. इन गरीब बच्चों के परिजनों की यह मजबूरी कि वे अपने बच्चों को दूसरे स्कूल में नहीं भेज सकते हैं. परिजनों ने बताया कि इस स्कूल के प्रिंसिपल ज्यादातर वक्त छुट्टियों पर ही रहते हैं. न्यूज18 की टीम प्रिंसिपल से बात करने के लिए जब स्कूल पहुंची तब भी वे छुट्टी पर ही थे. न्यूज18 ने जब ये तस्वीरें उच्च अधिकारी को दिखाई तो वो भी सकते में आ गए और उन्होंने कहा कि इस पर जल्द ही कार्रवाई होगी.

स्कूल चलें अभियान, इन्फेक्शन का खतरा, गटर का पानी, प्राथमिक स्कूल की तस्वीरें, कार्रवाई का भरोसा, School Chalen campaign, danger of infection, gutter water, primary school photos, assurances of action

सागर के मकरोनिया में स्थित इस स्कूल में मासूम बच्चे जूठे बर्तन गटर के पानी से धोने को मजबूर हैं.


सरकारी स्कूल में बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ की ऐसी घटनाएं शासन-प्रशासन के दावों की पोल खोलती हैं. गौरतलब है कि मिड-डे मील बनाने वालों पर ही झूठे बर्तनों को धोने की जिम्मेदारी होती है, लेकिन इस स्कूल में यह जिम्मेदारी बच्चों पर डाल दी गई है.
Loading...

(सागर से राजेश पवार की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें- रायसेन में जलसैलाब : उफनते नदी नालों के बीच जानलेवा लापरवाही

ये भी पढ़ें- कुएं में पंप डालने के दौरान हादसा : जहरीली गैस से एक की मौत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सागर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 2:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...