पत्रकार चक्रेश जैन की संदिग्ध परिस्थिति में मौत, जिला पंचायत ADO पर जिंदा जलाने का आरोप

मृतक चक्रेश जैन के भाई राजकुमार जैन ने आरोप लगाया कि अमन चौधरी और उसके एक साथी ने उनके भाई को जिंदा जलाकर मार डाला. उन्होंने पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया कि जब चक्रेश को अस्पताल लाया गया तो वह जिंदा थे. उस समय डॉक्टर और पुलिस मौजूद थे, लेकिन उसका बयान नहीं लिया गया.

News18 Madhya Pradesh
Updated: June 20, 2019, 2:18 PM IST
पत्रकार चक्रेश जैन की संदिग्ध परिस्थिति में मौत, जिला पंचायत ADO पर जिंदा जलाने का आरोप
सागर में पत्रकार चक्रेश जैन को जिंदा जलाया
News18 Madhya Pradesh
Updated: June 20, 2019, 2:18 PM IST
मध्य प्रदेश के सागर में पत्रकार चक्रेश जैन की जलने से संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है. मृतक के भाई का आरोप है कि शाहगढ़ जिला पंचायत के एडीओ अमन चौधरी ने चक्रेश को जलाकर मार डाला. बता दें कि करीब दो साल पहले अमन चौधरी ने पत्रकार चक्रेश जैन के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाया था. जिसकी सुनवाई अब अंतिम चरण में हैं. वहीं पुलिस का कहना है कि गंभीर रूप से जलने के कुछ ही घंटे पहले चक्रेश ने अमन चौधरी को कथित तौर पर आग लगा दी थी. जिससे कि वे 30 फीसदी तक जल गए. अस्पताल में भर्ती एडीओ अमन चौधरी ने बयान दिया कि चक्रेश सुबह उनके घर आया और उन्हें आग लगाकर मारने की कोशिश की.

एडीओ अमन चौधरी पर पत्रकार को जलाकर मारने का आरोप

पूरे मामले में नया मोड़ तब आ गया जब अमरमऊ के पास एक झोपड़ी में पत्रकार जैन करीब 90 फीसदी जली हुई अवस्था में मिले. अस्पताल लाने के बाद उनकी मौत हो गई थी. पुलिस की माने तो कुछ साल पहले अमन चौधरी और चक्रेश जैन के बीच विवाद हुआ था. जिसके बाद जैन के खिलाफ  एससी/एसटी एक्ट में  केस दर्ज हुआ था. इस मामले में चक्रेश जैन राजीनामा चाहते थे और इसी सिलसिले में बुधवार की सुबह वो अमन चौधरी से मिलने गए थे.

मृतक के भाई ने पुलिस पर लगाए गंभीर आरोप

वहीं मृतक चक्रेश जैन के भाई राजकुमार जैन ने आरोप लगाया कि अमन चौधरी और उसके एक साथी ने उनके भाई को जिंदा जलाकर मार डाला. उन्होंने पुलिस पर भी लापरवाही का आरोप लगाया कि जब चक्रेश को अस्पताल लाया गया तो वह जिंदा थे. उस समय डॉक्टर और पुलिस मौजूद थे, लेकिन उसका बयान नहीं लिया गया. एसपी अमित सांधी का कहना है कि पुलिस दोनों एंगल से मामले की जांच कर रही है. फोरेंसिक टीम दोनों घटनास्थलों से नमूने एकत्र कर जांच कर रही है. दोनों ओर से सीआरपीसी की धारा 174 के तहत दर्ज कराया गया है.

ये भी देखें - मधुसूदन पाटीदार ने महज 12 घंटे में फतह किया माउंट एल्ब्रस 

ये भी देखें - ग्रामीणों का आरोप- गांव से कम वोट मिले, मंत्री कर रहे परेशान
First published: June 20, 2019, 2:18 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...