वाहन नहीं मिला तो बाइक पर ले जाना पड़ा बेटी का शव, करंट लगने से हुई थी मौत

बच्ची की मौत के बाद परिजनों को पोस्टमार्टम के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र द्वारा वाहन मुहैया नहीं कराया गया. मजबूर होकर परिजनों ने बच्ची का शव बाइक पर पोस्टमार्टम कराने ले गए.

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 21, 2019, 3:53 PM IST
वाहन नहीं मिला तो बाइक पर ले जाना पड़ा बेटी का शव, करंट लगने से हुई थी मौत
तो बाइक पर ले गए बेटी का शव, करंट लगने से हुई थी मौत
News18 Madhya Pradesh
Updated: July 21, 2019, 3:53 PM IST
मध्य प्रदेश के सागर में स्वास्थ्य विभाग और बिजली विभाग की लापरवाही सामने आई है. सागर जिले के शाहगढ़ में करंट लगने से 4 साल की बच्ची की मौत हो गई. बच्ची की मौत के बाद परिजनों को पोस्टमार्टम के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र द्वारा वाहन मुहैया नहीं कराया गया. मजबूर होकर परिजनों ने बच्ची का शव बाइक पर पोस्टमार्टम कराने ले गए.

क्या है पूरा मामला

बच्ची की मौत के बाद शव वाहन नहीं मिलने पर बाइस से शव का पोस्टमॉटम कराने ले जाते परिजन


शाहगढ़ वार्ड 4 की रहने वाली पूनम शनिवार को अपने घर के पीछे खेलने गई थी. कुछ समय बाद उसके चिल्लाने की आवाज आई. बच्ची के चीखने की आवाज सुनकर उसकी मां मौके पर आई. उसकी मां ने देखा पूनम जमीन में पढ़े 11 केवी की बिजली के तारों में उलझी बेहोश पड़ी थी. पड़ोसियों ने सूखी लकड़ी के सहारे पूनम को तारों से बाहर निकाला. इसके बाद पड़ोसियों के साथ परिजन पूनम को शाहगढ़ अस्पताल ले गए, जहाँ उसको मृत घोषित कर दिया गया. इसके बाद परिजनों ने शाहगढ़ थाने को सूचना दी. पुलिस ने कागजी कार्रवाई कर शव को पोस्टमॉर्टम कराने को कहा. जिस पर परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन से शव वाहन की मांग की. लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र द्वारा परिजनों को पोस्टमार्टम के लिए वाहन मुहैया नहीं कराया गया.

बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप

स्वास्थ्य विभाग से शव वाहन नहीं मिलने पर शव को बाइक पर ले जाते परिजन


वहीं मामले में ग्रामीणों ने बिजली विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि 11 केवी का तार पिछले 20 दिनों से जमीन पर पड़ा था. जिसकी शिकायत की गई थी, लेकिन बिजली विभाग ने समय रहते कोई कार्रवाई नहीं की. अगर समय पर टूटे तार और पोल को बदल दिया जाता तो बच्ची की मौत नहीं होती. वहीं मौत की खबर मिलने के बाद बिजली विभाग के कर्मचारी मौके पर गये और तार का एक हिस्सा पेड़ से लपेटकर वापिस आ गये.
Loading...

(सागर से राजेश की रिपोर्ट) 

ये भी पढ़ें:- अपने खोए साम्राज्य को पाने के लिए कोर एरिया पहुंचा "सुल्तान" 

ये भी पढ़ें:- पेयजल योजना के प्रस्ताव पर फग्गन सिंह कुलस्ते के विवादित बोल
First published: July 21, 2019, 3:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...