होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /अनोखा प्रदर्शन: 20 दिनों से टाॅवर पर चढ़े हैं 5 किसान, सीएम को लिखा पत्र; जानें क्या है वजह?

अनोखा प्रदर्शन: 20 दिनों से टाॅवर पर चढ़े हैं 5 किसान, सीएम को लिखा पत्र; जानें क्या है वजह?

सतना में पॉवर ग्रिड कंपनी से मुआवजे की मांग को लेकर 5 किसान करीब 20 दिनों टॉवर पर चढ़कर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं, ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- प्रदीप कश्यप

सतना. सतना जिले में पाॅवर ग्रिड कंपनी से मुआवजे की मांग को लेकर किसान करीब 20 दिनों से हाईटेंशन लाइन के टॉवर पर चढ़कर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे हैं. अब स्थानीय विधायकों ने उनकी सुध लेते हुए सीएम को पत्र लिखा है, लेकिन मांग पूरी न होने तक किसान नीचे उतरने को तैयार नहीं हैं.

मध्यप्रदेश में सतना जिले की उचेहरा तहसील के अंतर्गत पिथौराबाद ग्राम में धरतीपुत्र किसान मुआवजे की मांग को लेकर जान जोखिम में डालने वाला प्रदर्शन कर रहे हैं. ये किसान बिरसा मुंडा जयंती के दिन से ही हाईटेंशन लाइन के टाॅवर पर चढ़कर मुआवजे की मांग पर अड़े हैं. इनका कहना है कि पाॅवर ग्रिड कंपनी ने उनकी जमीन ले ली लेकिन मुआवजा अब तक नहीं मिला है. पिछले कई वर्षों से मुआवजे की मांग करने के बाद भी इनकी समस्या का समाधान आज तक नही हो पाया है.

किसानों का कहना है कि उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और न्यायालय ने मुआवजे की दर भी निर्धारित की थी, इसके बावजूद समस्या का निदान अभी तक नही हो पाया, ऐसे में किसानों को यह कदम उठाना पड़ा है. ये पांचों किसान टाॅवर पर खाट बांधकर रह रहे हैं. जान जोखिम में डाल करीब 20 दिनों से यहां चढ़े हुए हैं, पुलिस एवं प्रशासन की तमाम कोशिशों के बाद भी वे नीचे उतरने को तैयार नहीं हैं.

विधायक को लिखना पड़ा पत्र
टाॅवर पर चढ़े किसान रामनाथ कोल, मातादीन कोल, रजनीश कुशवाह, शिवकुमार कुशवाहा, धर्मेंद्र कुशवाहा हैं, जिन्होेंने संकल्प लिया है कि मुआवजा मिलेगा तभी वे नीचे उतरेंगे. किसानों की जिद को देखते हुए स्थानीय मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर पीड़ित किसानों की समस्या का समाधान कराने की मांग की है, उन्होंने किसानों को विधि सम्मत मुआवजा निर्धारित करा कर भुगतान कराने की बात कही है.

जून माह में 15 दिन तक चढ़े रहे थे टाॅवर पर
जानकारी के मुताबिक पूर्व में भी जून महीने में कुछ किसानों ने 15 दिन तक टाॅवर पर चढ़कर प्रदर्शन किया था. उस वक्त जिला प्रशासन ने किसानों को भरोसा दिया था, जिसके बाद वे नीचे उतर गए थे. लेकिन पांच माह बाद भी समस्या का समाधान नही हो सका, जिसके बाद ये पांच किसान अनिश्चितकाल के लिए टाॅवर पर चढ़कर धरना दे रहे हैं.

Tags: Farmers Protest, Mp news, Satna news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें