सतना अपहरण: 12 दिन बाद अगवा हुए जुड़वा बच्चों का यूपी में मिला शव

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी मामले में संज्ञान लिया था. सीएम ने डीजीपी वीके सिंह से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी थी और अपहरणकर्ताओं को जल्द गिरफ्तार करने के दिए निर्देश दिए हैं.

Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 24, 2019, 11:17 AM IST
सतना अपहरण: 12 दिन बाद अगवा हुए जुड़वा बच्चों का यूपी में मिला शव
किडनैप किए गए दोनों भाइयों की फाइल फोटो
Shivendra Singh Baghel
Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 24, 2019, 11:17 AM IST
मध्य प्रदेश के सतना जिले में चलती स्कूल बस से अगवा किए बच्चों का शव 12 दिन बाद उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के अगोसी घाट से बरामद किया गया है. बच्चों को ढूंढने के लिए दो राज्यों की पुलिस और एसटीएफ लगी हुई थी. शनिवार सुबह ही परिजनों और चित्रकूट वासियों ने पुलिस प्रशासन को अल्टीमेटम दिया था कि अगर 36 घंटे में मासूम नहीं मिले तो चित्रकूट में उग्र प्रदर्शन होगा.

इससे पहले अपह्रत किए गए दो जुड़वां भाइयों के मामले में पुलिस को अहम सुराग मिले थे. पुलिस को यह जानकारी मिली थे कि किडनैपर उत्तर प्रदेश से हो सकते हैं. मामले में एमपी सरकार ने तत्काल यूपी सरकार के साथ मिलकर दल गठित कर दिया था.



मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी मामले में संज्ञान लिया था. सीएम ने डीजीपी वीके सिंह से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी थी और अपहरणकर्ताओं को जल्द गिरफ्तार करने के दिए निर्देश दिए हैं. हालांकि अब यह नहीं बताया गया कि बच्चों के अपहरण के पीछे किसका हाथ था.

कैसे हुआ था अपहरण

यह घटना चित्रकूट में तब हुई जब बाइक सवार दो नकाबपोश बदमाश ने बस को रुकवाया और उस पर चढ़ गए, उसके बाद उन्होंने बंदूक की नोंक पर बच्चों का अपहरण किया. वारदात में साढ़े पांच लाख के इनामी अंतरराज्यीय गैंग सरगना बबुली कौल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही थी. अपह्रत बच्चे पांच वर्षीय श्रेयांश और प्रियांश रावत जुड़वां भाई हैं और उनके पिता ब्रजेश रावत हिमशंकर विजय तेल के बड़े कारोबारी हैं.

यह देखें- खौफनाक! चलती स्कूल बस से बंदूक की नोक पर दो बच्चों का अपहरण 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार