• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • सतना अपहरण: यूपी के हो सकते हैं किडनैपर, पुलिस को मिले अहम सूत्र

सतना अपहरण: यूपी के हो सकते हैं किडनैपर, पुलिस को मिले अहम सूत्र

दोनों जुड़वा भाइयों की फाइल फोटो पिता के साथ

दोनों जुड़वा भाइयों की फाइल फोटो पिता के साथ

मामले में तत्काल एमपी सरकार ने यूपी सरकार के साथ मिलकर दल गठित कर दिए हैं जो बच्चों की सर्चिंग प्रक्रिया देखेंगे

  • Share this:
मध्य प्रदेश के सतना जिले में चित्रकूट से अपह्रत किए गए दो जुड़वां भाइयों के मामले में पुलिस को अहं सुराग मिले हैं. बताया जा रहा है कि किडनैपर उत्तर प्रदेश से हो सकते हैं. मामले में तत्काल एमपी सरकार ने यूपी सरकार के साथ मिलकर दल गठित कर दिए हैं जो बच्चों की सर्चिंग प्रक्रिया देखेंगे.

वहीं मामले में एमपी और यूपी में कई इलाकों में पुलिस की दबिश जारी है. मध्य प्रदेश सरकार पूरे मामले पर नजर रखे हुए है. अलग-अलग जगहों पर चार किडनैपिंग के मामले सामने आने के तारों को भी जोड़ने की कोशिश की जा रही है. किडनैपिंग के मामलों के पीछे किसी साजिश के भी संकेत मिल रहे हैं.

जुड़वां भाइयों के अपहरण का मामला: मुख्यमंत्री ने डीजीपी से मांगी रिपोर्ट

उधर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मामले में संज्ञान लिया है. सीएम ने डीजीपी वीके सिंह से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है. मुख्यमंत्री ने अपहरणकर्ताओं को जल्द गिरफ्तार करने के दिए निर्देश दिए हैं. इसके अलावा कमलनाथ ने प्रदेश की बिगड़ती कानून व्यवस्था पर नाराजगी भी जताई है. वहीं डीजीपी ने बताया कि लिस मुख्यालय इस अपहरण कांड की मॉनिटरिंग कर रहा है.

बता दें यह घटना चित्रकूट में तब हुई जब बाइक सवार दो नकाबपोश बदमाश ने बस को रुकवाया और उस पर चढ़ गए, उसके बाद उन्होंने बंदूक की नोंक पर बच्चों का अपहरण किया. वारदात में साढ़े पांच लाख के इनामी अंतरराज्यीय गैंग सरगना बबुली कौल का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है.
अपह्रत बच्चे पांच वर्षीय श्रेयांश और प्रियांश रावत जुड़वां भाई हैं और उनके पिता ब्रजेश रावत हिमशंकर विजय तेल के बड़े कारोबारी हैं.

यह पढ़ें- खौफनाक! चलती स्कूल बस से बंदूक की नोक पर दो बच्चों का अपहरण

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज