दीन दयाल रसोई योजना में नहीं भर पा रहा गरीब का पेट

गरीबों के लिए पांच रुपये में भरपेट भोजन देने की सरकार की मंशा पर अभी से पानी फिर रहा है. सतना शहर के दीन दयाल रसोई योजना में न तो गरीबों को भरपेट भोजन मिल रहा और न ही भोजन की गुणवत्ता का ध्यान रखा जा रहा है.

Shivendra Singh Parmar | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 21, 2018, 8:12 PM IST
दीन दयाल रसोई योजना में नहीं भर पा रहा गरीब का पेट
दीन दयाल रसोई योजना के तहत गरीब को ऐसी मिल रही थाली
Shivendra Singh Parmar | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 21, 2018, 8:12 PM IST
गरीबों के लिए पांच रुपये में भरपेट भोजन देने की सरकार की मंशा पर अभी से पानी फिर रहा है. सतना शहर के दीन दयाल रसोई योजना में न तो गरीबों को भरपेट भोजन मिल रहा और न ही भोजन की गुणवत्ता का ध्यान रखा जा रहा है. ना ही मीनू के अनुसार खाना बन रहा है. सिर्फ रोटी, सब्जी और चावल से काम चल रहा है.गरीबों की मानें तो चार रोटियों और हाफ प्लेट चावल में पेट नही भरता. पांच रुपये का दोबारा टोकन लेना पड़ता है. उधर योजना का संचालन करने वाली संस्था की मानें तो कुछ दिनों से समस्या आ रही है जिसे दूर कर लिया जाएगा. वहीं वहीं संस्था के कर्मचारी इस मामले में विरोधाभास बयान दे रहे हैं.

सतना में भी सरकार की मंशा नुसार दीन दयाल रसोई योजना की बड़े ही धूम धाम से शुरुआत हुई थी. कुछ दिनों तक योजना का सफल क्रियान्वयन हुआ मगर अब यह योजना सिर्फ दिखावे और कमाई का जरिया बन गई है. इस योजना के तहत पांच रुपये में भरपेट भोजन देना था. मगर अब निविदा वाली स्वयंसेवी संस्था घनश्याम सोसाइटी ने अपने ठंग से योजना का संचालन कर रही है.

संस्था सिर्फ चार रोटी और हाफ प्लेट चावल दे रही है. इतना ही नहीं जिस दिन दाल बनाती है उस दिन सब्जी नहीं बनती और जिस दिन सब्जी बनती है उस दिन दाल नहीं बनती. रोटी भी खाने योग्य नहीं और सब्जियों के छिल्के तक नहीं निकाले जा रहे हैं.बहरहाल सरकार गरीबों के लिए रियायती दर पर भोजन देने के लिए योजना बनाई है. एक रुपये किलो पर गेहूं, चावल और नमक के साथ 13 रुपये का अनुदान भी दे रही है. इस सब के बावजूद गरीब का पेट खाली रहता है.
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...